यात्रा वृत्तांत ‘सफर श्रृंखला’

Read Time42Seconds
manila kumari
 सहयोग प्रकाशन जमशेदपुर से प्रकाशित यात्रा वृत्तांत सफर श्रृंखला पुस्तक डॉ आशा श्रीवास्तव द्वारा लिखी गई बेहद रोचक, ज्ञानवर्धक एवं सारगर्भित हिंदी की रचना है l इस पुस्तक की भाषा इतनी सरल है कि विद्यालय में पढ़ने वाले छोटे-छोटे छात्र भी पढ़ कर आसानी से समझ सकते हैं l इस पुस्तक में ना केवल विभिन्न स्थानों का वर्णन किया गया है बल्कि वहाँ के इतिहास, भौगोलिक परिस्थितियों, रहन सहन, भाषा और संस्कृति का भी उल्लेख किया गया है l इस पुस्तक को पढ़ते समय कहीं भी लय भंग नहीं होता है l  इस पुस्तक में लेखिका डॉ आशा श्रीवास्तव ने अपने  द्वारा किए गए विदेश यात्रा के अनुभव का वर्णन किया है l इस पुस्तक में स्वकथन और शुभाशंसा के उपरांत श्रृंखला की कड़ियां का जिक्र किया गया है l श्रृंखला की कड़ियां में लेखिका ने सुहानी सफर की सुहानी कहानी शीर्षक से  एक कविता के माध्यम से पूरी रचना का संक्षिप्त सार आकर्षक शब्द योजना के माध्यम से प्रस्तुत किया है l
Untitled
यूरोप यात्रा
 सर्वप्रथम यूरोप भ्रमण का उल्लेख है, जो कि लेखिका की प्रथम विदेश यात्रा रही है l लेखिका की  विदेश यात्रा का प्रारंभ 9 मई 1996 को हुआ l इस पाठ में उन्होंने जमशेदपुर से कोलकाता पहुँचने फिर  कोलकाता से दिल्ली और दिल्ली से एम्स्टर्डम शिफॉन तक के सफर का वर्णन किया है l एम्स्टर्डम आकर एक अजनबी वृद्ध से अपने बेटे आकाश के बारे में सुनकर लेखिका का मन गदगद हो गया l एम्स्टर्डम नाम की उत्पत्ति के संबंध कहा गया है कि इसकी उत्पत्ति एम्सटेल नदी पर बने बांध पर हुई l एम्स्टर्डम में नहरों से आवागमन और व्यापार की सुविधा है l यह नीदरलैंड का सबसे बड़ा शहर हैै l इसे वेनिस ऑफ द नॉर्थ कहा जाता है lयहाँ  की संस्कृति को यूनेस्को ने विश्व का सांस्कृतिक धरोहर माना है l नीदरलैंड में हर 10 वर्षों में लगने वालेेेे फूलों के मेले का जीवंत वर्णन है l यूरोप भ्रमण के दौरान लेखिका हॉलैंड गई जो हीरे के व्यवसाय के लिए प्रसिद्ध है l
 लंदन का  इतिहास सर्वविदित होने के कारण लेखिका ने टेम्स नदी के किनारे बसे लंदन को गौरवशाली कहा है l यह उनका दूसरा हवाई सफर था l लंदन में लेखिका ने चार प्रसिद्ध विश्व विरासत स्थल टावर ऑफ लंदन, क्वि गार्डेंस पैलेस आफ वेस्ट मिनिस्टर, वेस्ट मिनिस्टर ऐबी और सेंट मार्गरेट चर्च का भ्रमण किया l इनके अलावा  बकिंघम पैलेस शाही महल,मैडम तुषाद की मोम की बनी दुनिया, लंदन ब्रिज, टावर ऑफ लंदन शाही किला,बिग बेन भी देखा l इस पुस्तक में लंदन जैसे उन्नत देश में टावर ऑफ़ लंदन में काग से संबंधित अंधविश्वास का उल्लेख किया गया है l लेखिका को लंदन की  अनुशासनप्रियता बहुत पसंद आई l छोटे से देश द्वारा  भारत और विश्व पर कब्जा  करने की नीति  “फूट डालो और राज करो” का स्मरण हो आया l लंदन से लेखिका बेल्जियम यात्रा पर निकली  l बेल्जियम उत्तर पश्चिम यूरोप का मुख्य देश है l यहाँ 1830 ई0 से बेल्जियम की क्रांति तक यूरोप की गई लड़ाईयाँ  लड़ी गई, इसलिए इसे ‘यूरोप का युद्ध मैदान’ की संज्ञा मिली है l यहाँ चॉकलेट के लिए लाई गई अच्छी कोकोआ की पूरी जानकारी लेखिका को मिली l लेखिका ने यहाँ मौजूद कांस्य मूर्ति मानेकस पीस को देखा और उससे संबंधित कथाओं का उल्लेख कियाl यहाँ के एटोमियम, डायनसोर गैलरी, मिनी यूरोप के बारे में  वर्णन किया है l जर्मनी की सैर लेखिका ने दो बार की l पहली बार यूरोप भ्रमण की कड़ी के रूप में और दूसरी बार 2002 ई0 मैं अपने पुत्र और पुत्रवधू के साथ l यहाँ  के लोगों की मेहमाननवाजी के प्रति बेरुखी लेखिका को पसंद नहीं आयी l हिटलर द्वारा किए गए क्रूर अत्याचार का जिक्र यहाँ की यात्रा के दौरान की है l यूरोप यात्रा के दौरान यूरोप की राजधानी वियना, पश्चिमी सभ्यता का जनक इटली, वेनिस, रोम, फ्लोरेंस, फ्रांस, स्वीटजरलैंड, बाजेल का वर्णन हैl वियना को ‘सिटी ऑफ म्यूजिक ‘कहा जाता है l यहाँ  बड़े-बड़े कलाकारों ने अपनी कला का भव्य प्रदर्शन किया है और यह विश्व प्रसिद्ध कलाकारों की भूमि रही है l लेखिका ने जो जानकारी विथोवन और गायक मोत्सार्ट के बारे में प्राप्त किया उसका उल्लेख ईमानदारी से किया है l इटली की संस्कृति, फैशन,अंगूर की खेती, रेड वाइन, डोलैक्टो वाइन, मुसोलिनी के शासनकाल में फासिस्ट सत्ता का आतंक, लाउरो द  बोसिस, वेनिश के कनाल और गंडोला  टूर के बारे में बताया है l ऐतिहासिक  रोम के संबंध में उसका टाइवर नदी किनारे बसा होना, रेमस और रोम्यूलस  की कथा, केपिटोलिन मूर्ति,  लायन फाउन्टेन, रोम का इतिहास, संस्कृति, धर्म, समाज, भौगोलिक पर्यावरण और प्राकृतिक सुंदरता का उल्लेख है l विश्व के सबसे छोटे देश वेटिकन सिटी और रोम  की भव्य रंगशाला कोलोसियम की सुंदरता का वर्णन है l इटली के खूबसूरत शहर फूलों की नगरी फ्लोरेंस नाम की उत्पत्ति एवं सुंदरता का वर्णन हैl संत फ्रांसिस की कथा का संक्षिप्त परिचय है l फ्रांस  शब्द की उत्पत्ति का परिचय के साथ वहाँ की अर्थव्यवस्था, जीवन स्तर, कला, साहित्य, भाषा का उल्लेख है l एफिल टावर संबंधी जानकारी, सीन नदी, रेल टर्मिनल का जिक्र है l स्विट्जरलैंड का उल्लेख करने से पहले उसकी प्राकृतिक सुंदरता को “स्विट्जरलैंड  – प्राकृतिक सौंदर्य का खजाना” नामक कविता के माध्यम से पूर्णरूपेण अभिव्यक्ति दी है l प्राकृतिक सौंदर्य के अलावा स्विट्जरलैंड की भाषा, संस्कृति, अर्थव्यवस्था, धर्म की विस्तृत जानकारी है l पत्थर पर अवस्थित शियोन का किला का इतिहास, वायरन  की कविता, आपातकाल के प्रति सजग रहने वाले लोग और उनके खान पान का उल्लेख है l लेखिका को स्विजरलैंड आने का दो बार अवसर प्राप्त हुआ और इन्होंने स्विट्जरलैंड की सुंदरता का अनुपम वर्णन किया हैl स्विट्जरलैंड में स्थित बाजेल शहर का परिचय, खानपान, व्यवसाय, दर्शनीय स्थल की विस्तृत चर्चा की है l
 अमेरिका यात्रा
 अमेरिका यात्रा का सुअवसर लेखिका को 1996 ई 0 में  पहली बार प्राप्त हुआ, जब इनके पुत्र अपनी पढ़ाई  येल विश्वविद्यालय से कर रहे थे l इस अमेरिका यात्रा के दौरान लेखिका ने येल  विश्वविद्यालय, येल आर्ट सेंटर, स्टरलिंग मेमोरियल लाइब्रेरी देखा  और उसका उल्लेख इस पुस्तक में किया है l दूसरी बार लेखिका को अमेरिका यात्रा का सौभाग्य 2000 ई0 में प्राप्त हुआ l  इस बार की यात्रा में  लेखिका को अमेरिका के संबंध में बहुत कुछ जानने का अवसर मिला,जिसे इस पुस्तक में वर्णित किया है l   सफ़र श्रृंखला में मेसाच्यूसेट्स की अद्वितीय सुंदरता, हावर्ड विश्वविद्यालय के प्रारम्भ से वर्तमान स्थिति तक का विवरण, वाइडनर लाइब्रेरी के बनने की कहानी, कैनेडी पार्क, कैंब्रिज और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की जानकारी के साथ रूजवेल्ट के टेडी बेयर की कहानी, बॉस्टन की नौकायन प्रतियोगिता, लोगों के साथ – साथ कुत्तों की अनुशासनप्रियता का उल्लेख किया गया  है l अमेरिका में अपने पति, बहू और स्वयं के 2000ई0 में वहाँ की तहजीब के साथ जन्मदिन मनाने के अनुभव का  सुंदर  चित्रण   लेखिका ने किया है l बोस्टन में मनाए जाने वाले अमेरिकी आजादी के जश्न का सुंदर वर्णन  के साथ ही बोस्टन के इतिहास और स्वतंत्रता की लड़ाई का वर्णन हैl लेखिका ने अपने 5 वर्षीय पोते व्योम की बाल सुलभ चंचलता, सरलता और जिज्ञासा के बारे में बताते हुए उसकी देश भक्ति और आध्यात्मिक आस्था का जिक्र किया हैl 2013 मैं व्योम के जन्मदिन पर आयोजित रेपटाइल शो के बारे में विस्तार से बताया है l बेन एंड जैरी की कहानी है l
 विभिन्न देशों में अलग-अलग मान्यताओं के अनुसार नववर्ष मनाने की प्रथा का उल्लेख है l  रोम, चीन मिस्र में  नववर्ष मनाने के लिए प्रचलित धारणाओं का वर्णन है l अमेरिका में मनाए जाने वाले धन्यवाद ज्ञापन समारोह के प्रारंभ से लेकर अब तक मनाए जाने वाले परंपरा का जिक्र है l अमेरिका तथा कनाडा में रहने वाले अमिशों के तौर-तरीके, रहन सहन के बारे में बताया है l नियाग्रा जलप्रपात और ऑन्टेरियो की मनमोहक सुंदरता का वर्णन करते हुए वहाँ तक  के सफर का अनुभव बताया है lमैरीलैंड में दिखाए जाने वाले डॉल्फिन, किलर व्हेल और सी लायन के खेल के बारे में बताया हैl चार्ल्स  ब्लोडिन नामक व्यक्ति द्वारा नियाग्रा जलप्रपात को पार करने की घटना का जिक्र किया हैl  नियाग्रा जलप्रपात के इतिहास का उल्लेख आई मैक्स थियेटर में दिखाया जाता है l
 कैलिफ़ोर्निया में रहने वाली श्रीमती लिंडा के घर के आसपास की प्राकृतिक सुंदरता का बखूबी बखान किया है lहॉलीवुड के यूनिवर्सल स्टूडियो के अद्भुत नजारों का वर्णन है  अपने देश भारत के प्रति गौरवपूर्ण उक्तियां विदेशियों द्वारा सुनने का भी जिक्र किया गया हैl प्रवासी भारतीयों के संबंध में लेखिका ने लिखा है कि जो भारतीय अमेरिका एक बार चले जाते हैं वह वापस नहीं लौटते उनमें से कुछ ही लोग वापस आते हैं, वे वही रच बस जाते हैंl कुछ प्रवासी परिवारों के रहन सहन के बारे में विस्तार से बताया हैl इन परिवारों की गहरी आस्था भारतीय संस्कृति के प्रति है,  जिसके कारण वे अपने बच्चों को भारतीय संस्कार देते हैंl अमेरिका के महान व्यक्तियों में राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन, न्यूटन, राष्ट्रपति बेंजामिन फ्रैंकलीन, जॉर्ज बर्नार्ड शा के जीवन की घटना का उल्लेख हैl कनाडा भ्रमण के दौरान क्यूबेक के इतिहास का जिक्र हैl वैंकूवर की विशेषता, स्टेनली पार्क, टोटेम पोल्स में  स्थित स्तंभ की कहानी, ग्रैंडविले आईलैंड, ह्विस्लर, के नामकरण की कहानी, विक्टोरिया, बुशार्ट गार्डेंस के दृश्य और बनने की कहानी, का उल्लेख लेखिका ने किया हैl
 अलास्का यात्रा के दौरान लेखिका ने सागर के गर्भ में नामक अध्याय में सागर की विशेषताओं का उल्लेख किया हैl  सेवन नाइट नार्थ बाउंड अलास्का क्रूज की यात्रा का जिक्र किया है l अलास्का के मनमोहक दृश्य का सुंदर वर्णन हैl अलास्का में मौजूद टोटम पोल्स, रेन फॉरेस्ट, नेशनल पार्क, झील, झरने, बहता समुद्र, बर्फ की नदियां,मैनडेन ग्लेशियर, मैकिनले, अलास्का में आए भूकंप, वैल्यू ऑफ टेन थाउजेंड स्मोक्स की कथा,
 कलैन्डिक गोल्ड रस  की कहानी, सालमन मछली के व्यवसाय का वर्णन हैl देनाली नेशनल पार्क के जीव जंतुओं का सुंदर वर्णन हैl केनाई नदी,  केनाई प्रायद्वीप और  केनाई निवासियों के रहन सहन,अलग अलग सालमन मछली की उपलब्धता का उल्लेख है lविदेश भ्रमण के क्रम में लेखिका को 2013 ईस्वी में येलो स्टोन नेशनल पार्क देखने का अवसर प्राप्त हुआ l
 साल्ट लेक सिटी से सड़क मार्ग से येलो स्टोन नेशनल पार्क के लिए यात्रा प्रारंभ हुई l रास्ते में घना जंगल था जहां घोर अंधेरा था और बीच-बीच में जंगली जानवरों की आंखें चब्बी चमक उठती थी l जानवरों की आंखें सड़क किनारे चमक उठती थी l येलो स्टोन पार्क की खोज किसने कब और किन हालातों में की का जिक्र लेखिका ने किया है l इसी क्रम में स्नेक नदी, मैमथ हॉट स्प्रिंग, येलोस्टोन आईदाहो, मौनटाना, विस्कुट बेसिन जैसी जगहों को
देखा l
लेखिका ने अपनी यात्रा वृतांत के दौरान पूर्व के वेनिश   थाईलैंड के लोक जीवन, सांस्कृतिक परंपराओं, आचार विचार, सामाजिक मान्यताओं के साथ-साथ भगवान बुद्ध की प्रतिमा, एमराल्ड बुद्ध की कहानी के बारे में भी बताया है l 1939 ई 0 थाईलैंड का नाम श्याम देश था जिसे स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात यहाँ के निवासियों ने थाईलैंड कहना प्रारंभ किया जिसका अर्थ ” स्वतंत्र निवासियों का देश “है l मेकांग नदी के तट पर बसा थाईलैंड का मुख्य पेशा धान की खेती और मछली पकड़ना है l इसके अलावा सागवान की लकड़ी, नारियल, रबड़, तंबाकू, रांगा  यहां से विदेशों में निर्यात किया जाता है l यहां भारत में पाए जाने वाले सभी फल मिलते हैं l  साथ ही वहां एक ऐसा सेब  मिलता है,जिसे रोज एप्पल कहा जाता है,  जो देखने में फल कम फूल अधिक लगता है  l यहां बुद्ध की विभिन्न मुद्राओं में मूर्ति मौजूद है l यहां का फ्लोटिंग मार्केट अत्यधिक आकर्षक और सुंदर है जो तैरती ना हो पर स्थित है l बैंकॉक के ग्रैंड प्लेस में स्थित आई राजाओं का भव्य महल देखने योग्य  है l
अनोखी धरती के अजूबे रहस्य के अंतर्गत ऑस्ट्रिया के बर्जनलैंड में सांप की तरह रेंगने वाली नदी के नाम से चर्चित राब नदी का  किया है l दक्षिण अमेरिका के सूओन नामक चींटी के बाढ़ आने पर  उसकी रक्षा प्रणाली का जिक्र किया  है l लेखिका ने सौर तूफान और उसके भयंकर परिणाम का भी जिक्र किया है l धरती के प्रांगण में रहस्यमई नदियों का जिक्र करते हुए लेखिका ने अलग -अलग रंगों की नदी जैसे भूरी,लाल,  नीली, काली और पीली नदी तथा नदियों के पानी के अलग -अलग स्वाद का भी वर्णन किया है  l फूलों की न्यारी दुनिया के के तहत लेखिका ने अजब गजब विदेशी फूलों का जिक्र किया है l एक फूल का पौधा ऐसा जो 40 वर्ष में फूल देता है और मर जाता है  l कैंडिलस्टिक्स ऑफ द सन ‘ नामक फूल कैंडल की तरह जलाया भी जाता है l वेस्टइंडीज के अनोखे लालटेन के बारे में बताया है, जो कद्दू में असंख्य छेद कर उसमें जुगनुओं को भरकर बनाया जाता है l अनोखी रंग बदलती झीलों के बारे में बताने के क्रम में ऑस्ट्रेलिया में मौसम के अनुरूप रंग बदलती झील का उल्लेख किया है जो कभी सफेद तो कभी नीले रंग की दिखती है l जयंती हवाई दीप के ‘आग की झील’ से धुआं और आग की लपटें दोनों ही निकलते  रहती हैं l आयरलैंड में मौजूद एक अनोखी झील में कुछ भी डालने पर पत्थर बन जाता है l बल्झिया द्वीप के  हरनोई नामक कुंड में अगर स्त्रियां स्नान करती हैं तो उन्हें आनंद आता है और पुरुष स्नान करने पर उन्हें करण का झटका लगता है l मानवता संसार के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के पक्षियों एवं परिस्थितियों के अनुरूप उनके व्यवहार के बारे में बताया है l जलीय जीवों के अंतर्गत फायरमाउथ, मिट नाइट मोली मछली, ग्लास फिश, जेबरा डोनिया, सुनहरी व्हेल, डॉल्फिन का वर्णन किया है l कुछ जानवरों के विशेष गुण की चर्चा करते हुए सांप, कुत्ता, बिल्ली, शार्क,  मेंढक जैसे जीवों का उल्लेख है  अलग-अलग जीव जंतु के सोने के तरीके का भी जिक्र किया गया है l सबसे अंत में मलेशिया यात्रा का वर्णन है l मलेशिया के पेट्रोनस ट्विन टॉवर्स, के एल पार्क , एक्वेरिया, विक्टोरियन फाउंटेन, गुआन यीन  टेंपल, नेशनल मॉन्यूमेंट, बुकिट  बिन tang, महामरियम्मन मंदिर,   शंघाई टावर, शंघाई वर्ल्ड सेंटर, रॉयल क्लॉक टावर, सुपर टावर, पिंग एंड फाइनेंस सेंटर, इंटरनेशनल कॉमर्स सेंटर, के एल 18, ताइपे 101 जैसे क्षेत्रों का भ्रमण किया गया और उनका उल्लेख विस्तारपूर्वक किया गया है l सबसे अंत में अंत में दो शब्द : विचार विमर्श के तहत लेखिका ने अपने विचार दिए हैं l इस पुस्तक में बहुत ही कलात्मक रूप में लेखिका ने अपनी यात्रा का वर्णन किया है l इसे पढ़कर आसानी से पाठक वर्ग उन क्षेत्रों की अनुभूति प्राप्त कर सकता है, जिनकी यात्रा लेखिका ने की है l लेखिका ने नवप्रयोग करते हुए विविध लोगों को सम्बोधित करते हुए पाठ प्रांरभ  किया है l इस पुस्तक को और भी आकर्षक बनाया  जा सकता था, यदि स्थानों का उल्लेख करते समय उस स्थान के चित्र को वहीं प्रस्तुत किया जाता l पूर्णरूपेण देखा जाए तो यह पुस्तक ज्ञानवर्द्धक,रुचिकर  और सराहनीय है I
#डॉ मनीला कुमारी

परिचय : झारखंड के सरायकेला खरसावाँ जिले के अंतर्गत हथियाडीह में 14 नवम्बर 1978 ई0 में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा गाँव के ही स्कूल में हुआ। उच्च शिक्षा डी बी एम एस कदमा गर्ल्स हाई स्कूल से प्राप्त किया और विश्वविद्यालयी शिक्षा जमशेदपुर वीमेन्स कॉलेज से प्राप्त किया। कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय सम्मेलनों में पत्र प्रस्तुत किया ।ज्वलंत समस्याओं के प्रति प्रतिक्रिया विविध पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही है। प्रतिलिपि और नारायणी साहित्यिक संस्था से जुड़ी हुई हैं। हिन्दी, अंग्रेजी और बंगला की जानकारी रखने वाली सम्प्रति ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय में पदस्थापित हैं और वहाँ के छात्र -छात्राओं को हिन्दी की महत्ता और रोजगारोन्मुखता से परिचित कराते हुए हिन्दी के सामर्थ्य से अवगत कराने का कार्य कर रहीं हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हावड़ा - मेदिनीपुर की लास्ट लोकल ....!!

Mon Jul 1 , 2019
महानगरों के मामले में गांव – कस्बों में रहने वाले लोगों के मन में कई तरह की सही – गलत धारणाएं हो सकती है। जिनमें एक धारणा यह भी है कि देर रात या मुंह अंधेरे महानगर से उपनगरों के बीच चलने वाली लोकल ट्रेनें अमूमन खाली ही दौड़ती होंगी। […]
tarkesh ojha

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।