मतलब के यार

3
Read Time4Seconds

trupti raksha

सतरंगी सपनों की दुनिया,
आज लगे बेमानी..
अपने ही जब गैर बने,
तो दुनिया लगे बेगानीll

रस्ते चलते साथी मिलते,
कितने जाने पहचाने..
वक्त पड़े इनका जब देखो,
बन जाते अंजानेll

हैं मतलब के यार सभी,
न इनको करना याद कभी..
जो पल में साथ बनाए कहीं,
पर साथी पर विश्वास नहींll

ये पीर-पराई न जाने,
अपनों को ही न पहचाने..
इनकी अपनी पहचान कठिन,
फिर क्यूं बनते हैं ये सयानेll

सुख में नदियों की लहरों-सी,
चंचल कर जाते हैं तन-मन..
दुःख में पतझड़ के पत्तों-सी,
क्यों दे जाते हैं सूनापनll

 #तृप्ति रक्षा

परिचय: तृप्ति रक्षा का जन्म 1985 में हुआ हैl आप सिवान(बिहार) में रहती हैं और समाजशास्त्र तथा शिक्षा शास्त्र में एमए किया हैl साथ ही बीएड भी हैंl सम्प्रति  के रूप में बालिका  इण्टर काॅलेज(मैरवा) में समाजशास्त्र विषय की शिक्षिका हैंl लेखन आपका शौक हैl 
0 0

matruadmin

3 thoughts on “मतलब के यार

  1. All the best your poem… I very happy to you know..that you are my district…..Rupesh Kumar

  2. Sahi hai.
    Magar is matlabi dunia me kuch apne aise bhi hai jo kabhi sath nahi chorte magar use pahchane ke liye jin ankho ki jarurat hai wo ankh log kholna hi nahi chahte

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्रीति

Wed Apr 5 , 2017
सुना था और हमेशा देखा भी था कि, नाम का असर व्यक्ति के चरित्र पर पड़ता है। आज भी वही सच देखा। ‘प्रीति’,परिवार की छोटी ही नहीं, बल्कि चार बहनों और एक भाई में दूसरे नम्बर की है। माँ,भाई के जन्म के दो माह बाद स्वर्गवासी हो गई। सभी भाई-बहनों […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।