क्रांतिकारियों की अद्धभुत वार्तालाप

0 0
Read Time2 Minute, 59 Second
shiv varma
हिंदुस्तान सोश्लिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के आगरा वाले मुख्यालय में
चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु, बटुकेश्वर दत्त ,शिव वर्मा, विजय कुमार सिन्हा, जयदेव कपूर ,डॉक्टर गया प्रसाद, विश्वनाथ वैशंपायन, सदाशिव राव मलकापुरकर, आदि दल के सभी सक्रिय सदस्य बैठे हैं।
हंसी मजाक चल रहा हैं। हंसी मजाक का विषय है कि कौन कैसे पकड़ा जाएगा पकड़े जाने पर कौन क्या करेगा और सरकार से किस तरह सजा मिलेगी ?
“ये हजरत (राजगुरु )तो सोते हुए ही पकडे जाएंगे। हद हो गई !जनाब चलते-चलते भी सोते जाते हैं। इनकी आंखें पुलिस लॉकअप में खुलेगी और फिर यह पहरे वालों से पूछेंगे ‘क्या मैं पकड़ा गया हूं या स्वपन देख रहा हूं?….”
.
 “मोहन (बटुकेश्वर दत्त )चांदनी रात में पार्क में चांद को देखते हुए पकड़े जाएंगे। पकड़े जाने पर पुलिस वालों से आप कहेंगे “कोई बात नहीं…..मगर चांद कितना सुंदर है……!”
.
“बच्चू (विजय कुमार सिन्हा) और रण्जीत (भगत सिंह) किसी सिनेमा हॉल में पकड़े जाएंगे और पकड़े जाने पर पुलिस से कहेंगे “जी हां ! पकड़ लिया तो क्या गजब हो गया । खेल तो पूरा देख लेने दो ।”
.
“और पंडितजी (चंद्रशेखर आजाद) बुंदेलखंड की किसी पहाड़ी में शिकार खेलते हुए किसी मित्र बने सरकार परस्त के विश्वासघात से घायल होकर बेहोशी की अवस्था में पकड़े जाएंगे। इन्हें जंगल से सीधे झांसी पुलिस अस्पताल में भेज दिया जाएगा वहीं इन्हें होश आने पर पता चलेगा की ये गिरफ्तार हो गए…..सजा दफा 121 में फांसी।”
.
आजाद ने झिड़की की हंसी हंसी।
भगत सिंह ने मजाक करते हुए कहा : “पंडित जी आपके लिए दो रस्सों की जरूरत पड़ेगी, एक आपके गले के लिए और दूसरा आपके इस भारी भरकम पेट के लिए।” आजाद तुरंत हंसकर बोले, “देख फांसी जाने का शौक मुझे नहीं हैं। वह तुझे मुबारक हो, जब तक यह बमतुल बुखारा (आजाद ने अपनी माउज़र पिस्तौल का यह विचित्र नाम रखा था) मेरे पास हैं किसी ने मां का दूध पिया है जो मुझे जीवित पकड़ ले जाए।”
संकलनकर्ता : राहुल इंक़लाब
ऐलान – ए – इंक़लाब, इंदौर
#शिव वर्मा की कलम से संस्मृतियां

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नई दिल्ली सांध्यकालीन हिन्दी संस्थान डॉ. नगेन्द्र साहित्यिक संगोष्ठी और दीक्षांत समारोह

Wed Mar 27 , 2019
  नई दिल्ली सांध्यकालीन संस्थान ने 8 मार्च, 2019 को भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली के परिसर में संस्थान की अध्यक्ष और सुप्रसिद्ध समाजसेवी सुश्री सुरेंदर सैनी की अध्यक्षता में “डॉ. नगेन्द्र साहित्यिक संगोष्ठी और दीक्षांत समारोह’’ संपन्न हुआ। संस्थान के प्रभारी और दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रो. पूरन चंद टंडन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।