गौरी के गौरव

0 0
Read Time3 Minute, 57 Second
gunjan gupta
हर-हर महादेव शिव शंकर
हे!बैरागी हे!चन्द्रशेखर
नाग वासुकी कण्ठ सुशोभित
मस्तक पर द्विज चन्द्र है सुंदर
गौरी के गौरव हे! अविनाशी
मृत्यंजय हे!गिरि के वासी
कांप उठे सब तीन लोक तब
डम-डम डमरू नाद करे जब
शीश जटा सोहे किलोल भरी
अभिषेक करे  पावन जल से
भस्मों का श्रृंगार किये तुम
भोग लगाते दूध और भंग से
ये मध्य नेत्र हे! शिवशम्भू
रौरव काल तब बन जाए
जब पापी,दुष्ट,अत्याचारी
तेरे भक्तों पर संकट लाये
ध्यान तुम्हारा हे!औघड़दानी
सब क्लेष हर लेता है
अंतर्मन की घोर मलिनता
क्षण में निर्मल कर देता है
उर अन्तस् में सदा विराजो
हे!सुधानिधि बरसाने वाले
आठ प्रहर मै तुम्हें पुकारूँ
भव-सागर पार लगाने वाले
परिचय…..
★नाम-   गुंजन गुप्ता
★पिता – श्री मुन्ना लाल गुप्ता
★माता – श्रीमती हेमन्त गुप्ता
★पति –  श्री उमेश कुमार गुप्त
★जन्मतिथि -18 नवम्बर
★शिक्षा- एम. ए. द्वय ( हिन्दी, समाजशास्त्र )
बीएड, यूजीसी नेट हिन्दी( लगातार तीन बार )
व्यवसाय – गृहिणी
संपर्क – तापगढ़ उ.प्र.(भारत) 
● *प्रकाशित साहित्य* – साझा काव्य संग्रह –  1-जीवन्त हस्ताक्षर ,2- काव्य  अमृत,  3-कवियों की मधुशाला, 4- बूँद-बूँद रक्त  5- जय रक्तवीर 6- नारी काव्य सागर,  7-भारत के हिन्दी कवि कवयित्रियाँ |
●समवेत लघुकथा संग्रह – लाल चुटकी
▪ *पत्र- पत्रिकाएं*  – इन्द्रप्रस्थ भारती, आधुनिक साहित्य , सृजन सरिता, दुनिया इन दिनों, लोकतंत्र की बुनियाद, क्राइम नेशन, सामना, अमर उजाला, किस्सा कोताह, कालजयी आदि राष्ट्रीय ,अंतर्राष्ट्रीय *( कनाडा, यूएसए, चीन, नेपाल आदि)* तथा मातृभाषा.कॉम आदि पोर्टल, ई- पत्रिका इत्यादि लगभग 85 से अधिक पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशन।
■कई शोध पत्र प्रकाशित —
●-1-“प्रिय प्रवास में स्त्री पात्रों की मानवीय भूमिका “
2- “रक्तदान उत्सव एक जीवनोत्सव”
3- प्रो शामलाल  और उनका साहित्य 
4- पुरुष बनाम स्त्री
5- समय और समाज का सजग प्रहरी: मनीष वैद्य
समीक्षात्मक लेख प्रकाशित ।
★किस्सा कोताह कविता प्रतियोगिता में *प्रथम* स्थान
●कई साहित्यिक समूह  फेसबुक  और वाट्सअप पर सक्रिय तथा समूह एडमिन ।
■सम्मान – * अमृत सम्मान 2016 ( विश्व हिंदी रचनाकार मंच दिल्ली )
* साहित्य सोम सम्मान 2016 ( शैली साहित्यिक मंच रोहतक )
* बालमुकुंद गुप्त  सम्मान 2017 ( अर्णव कलश एसोसिएशन हरियाणा )  
 * दिव्य रश्मि सम्मान 2018, पटना, बिहार
* नारी काव्य सागर सम्मान 2018
जेएमडी पब्लिकेशन दिल्ली
* श्रेष्ठ युवा सम्मान ,2018 विश्व हिंदी रचनाकार मंच दिल्ली
* रक्तदान सेवा सृजन सम्मान-2018, प्रज्ञा साहित्यिक मंच रोहतक,हरियाणा 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वो बैठे फेसबुक खोले

Sun Jan 20 , 2019
नभ चाहें धरती डोले, वो बैठें फेसबुक खोले उंगली करें होले होले,वो बैठें फेसबुक खोले! दुनिया भर के दोस्त बना दे, ये इण्टरनेट साइट, गीदड़ भी है यहाँ गरजते होकर इकदम टाइट। हैलो हाय बोलते रहते, हाउ आर यू कहते , सुन्दरियों को देख एक पे सौ रिकवेस्ट हैं करते। […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।