चिड़िया का शहर यह छूट गया

Read Time1Second

rajbala

अम्मा अब न चावल चुनती,
न बड़ियों को धूप दिखाती।

बर्गर-पिज्जा मांगे मुन्ना,
मुनिया भी न खीले खाती।

आंगन चिड़िया का छूट गया,
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

सूने सारे दालान पड़े,
खाली सारे खलियान पड़े।

खेतों से उठकर के बोरे,
जब गोदामों की ओर बढ़े।

दाना चिड़िया का छूट गया,
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

बेमतलब जल को बहा-बहा,
धरती को प्यासा छोड़ा है।

सब ताल-तलैया सूख गए,
मुख नदियों ने भी मोड़ा है।

चिङिया का नहाना छूट गया,
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

बिखरे कुनबे घर टूट गए,
अपने अपनों से रुठ गए।

आम नहीं,अब नीम नहीं,
हरे पेड़ सब ठूंठ भए ।

चिड़िया का चहकना छूट गया,
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

उड़ रही वास सड़ता कचरा,
चंहु ओर प्रदूषण है पसरा।

काला-सा धुआं चिमनियों का,
जब नभमंडल में जा बिखरा।

चिड़िया का उड़ना छूट गया।
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

कौड़ी -कौड़ी इंसान बिका,
सच्चाई हर पग छली गई ।

सब ओर बवाल मचा हुआ,
साजिश पे साजिश रची गई।

चिड़िया का शहर यह छूट गया।
क्यों भाग्य विधाता रुठ गया ?

                                                                           #राजबाला ‘धैर्य’

परिचय : राजबाला ‘धैर्य’ पिता रामसिंह आजाद का निवास उत्तर प्रदेश के बरेली में है। 1976 में जन्म के बाद आपने एमए,बीएड सहित बीटीसी और नेट की शिक्षा हासिल की है। आपकी लेखन विधाओं में गीत,गजल,कहानी,मुक्तक आदि हैं। आप विशेष रुप से बाल साहित्य रचती हैं। प्रकाशित कृतियां -‘हे केदार ! सब बेजार, प्रकृति की गाथा’ आपकी हैं तो प्रधान सम्पादक के रुप में बाल पत्रिका से जुड़ी हुई हैं।आप शिक्षक के तौर पर बरेली की गंगानगर कालोनी (उ.प्र.) में कार्यरत हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

'कटोरे पर कटोरा'

Mon Mar 20 , 2017
आज सुबह-सवेरे शीतला सप्तमी पर रंजन जी बिना चाय पिए ही श्रीमती जी को लेकर मंदिर पहुँच चुके थे।गुजरी रात को ही स्पष्ट निर्देश मिल चुके थे कि,गैस मत जलाना। महिलाऐं बासोरे और पूजन सामग्री की थाली लिए कतार में थीं और उनके पतिदेव मोबाइल पर बतियाते हुए आसपास ही […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।