कतार

Read Time4Seconds

vishwajit
एक दिन देखा लोगों की लंबी कतार,
कडी धूप में पसीने से लतपत खडी थी।
किसीके दर्शन के लिए वो बेताब, बेचैन नजरों से इंतज़ार कर रही थी।
हमने गौर से देखा पर कुछ न दिखा।
दिल में एक आस जगी और हो गए उसमें हम भी शामिल।

जब नंबर आया तो देखा के एक मूरत सोने से सजी थी।
अंदर के अंधेरे से जब बाहर निकला तो देखा,
उसी कडकती धूप में,
एक बच्चा नंगा शरीर लिए रो रहा था,
उसके नाक से पानी भी बह रहा था,
उसका देह उस गरम रेत में तप रहा था।

किसीने उसे नहीं देखा।
हमने उसे उठाया,
पेड की छांव में लेजाकर साफ किया।
अच्छे कपड़े पहनाये,
और फिरसे कतार के पास बिठाया।

अब भी उसे किसीने नहीं देखा।
हमने सोचा, “क्या कमी रह गयी है?”
याद आया, इसे भी सोने से मढदो।
अपनी जमां पूंजी बेचकर सोना खरीदा,
उसी प्रकार उसेभी सजाया,
फिरसे कतार के पास बिठाया।
लेकिन आश्चर्य!  अभीभी किसीने नहीं देखा।
फिर हमने हताश होकर तूलना की।
अब मेरे पास सिर्फ़ एक ही रास्ता था,

किसी तरह उस बच्चे को मैं पत्थर बना दूं।

नाम – विश्वजितसिंह दिलीपसिंह चंदेल 

साहित्यिक उपनाम -विदी 

वर्तमान पता – पुणे

राज्य – महाराष्ट्र 

शहर – पुणे 

शिक्षा – BE(Comp sci), MBA(Marketing), MA(English)

विधा – कविता 

लेखन का उद्देश – लेखन ही मेरा उद्देश है। 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सर्दी और कोहरा

Sun Nov 18 , 2018
सर्दी आई, सर्दी आई चारो ओर घना कोहरा लायी। आग रजाई कम्बल सबके काम आयी। हरी हरी घास पर कोहरे की बूँद पडे फ्रीज पंखा एसी बंद पड़े कपडे फूल पहनो वरना, मम्मी की डांट पडे सर्दी आई, सर्दी आई चारो ओर घना कोहरा लायी। फसलो देखो तैयार खडे खेतो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।