Advertisements

सोशल मीडिया पर कहाँ है मातृभाषा उन्नयन संस्थान

matrubhasha

 

मातृभाषा उन्नयन संस्थान को हमेशा से हिन्दी के प्रचार हेतु तकनीकी के प्रति सजग संगठन के रुप में जाना जाता रहा है।  ज़ाहिर है कि संस्थान ने इंटरनेट और सोशल मीडिया पर अपनी उपस्थिति को चिन्हित भी किया है। संगठन का हिन्दी प्रचार हेतु अपना सूचना प्रौद्योगिकी प्रकल्प है यानी एक ऐसी इकाई जिसका काम ही है जनमानस में हिन्दी का प्रचार प्रसार करना और उसे राष्ट्रभाषा बनाने हेतु समर्थन प्राप्त करना।

फ़ेसबुक पर संगठन का हिन्दी ग्राम पन्ना है जिस पर इस समय (ख़बर लिखे जाने तक) ३ हज़ार से अधिक लोगों द्वारा पसंद किया गया हैं। ट्विटर पर संगठन सक्रिय है और फॉलोअर्स की संख्या १ हज़ार से ऊपर है।

फ़ेसबुक पर संगठन न केवल विभिन्न मुद्दों पर लोगों की राय आमंत्रित करता है बल्कि संगठन और हिन्दी से जुड़ी जानकारी भी देता है। हिन्दी को रोजगार मूलक भाषा बनाने हेतु हिन्दी ग्राम सजग है। हिन्दी भाषा से सम्बंधित तथ्यों, प्रश्नों और विभिन्न महापुरुषों के जन्मदिवस, पुण्यतिथि व निधन आदि की सूचना भी प्रेषित करता है। इसके अतिरिक्त मातृभाषा उन्नयन संस्थान की एक इकाई मातृभाषा.कॉम ऐसी भी है जहाँ संस्थान द्वारा हिन्दी के रचनाकारों को मंच भी उपलब्ध करवाया जाता है जिसके माध्यम से नवोदित और स्थापित रचनाकारों के लेखन को पढ़ा जा सकता है। साथ ही संस्थान की इकाई के तौर पर अंतरा शब्दशक्ति प्रकाशन भी है जो हिन्दी के रचनाकारों की पुस्तकों का प्रकाशन करता है। साहित्यकारों की जानकारी को सहेजने के उद्देश्य से संस्था की एक इकाई ‘साहित्यकारकोश‘ भी सक्रीय है।

(Visited 33 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/10/hindi-graam-300.jpghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/10/hindi-graam-300-150x150.jpgArpan JainUncategorizedमातृभाषाअंतरा शब्दशक्ति प्रकाशन,मातृभाषा,मातृभाषा उन्नयन संस्थान,मातृभाषा. कॉम,साहित्यकारकोश,हिन्दी ग्राम,हिन्दी भाषासोशल मीडिया पर कहाँ है मातृभाषा उन्नयन संस्थान   मातृभाषा उन्नयन संस्थान को हमेशा से हिन्दी के प्रचार हेतु तकनीकी के प्रति सजग संगठन के रुप में जाना जाता रहा है।  ज़ाहिर है कि संस्थान ने इंटरनेट और सोशल मीडिया पर अपनी उपस्थिति को चिन्हित भी किया है। संगठन का हिन्दी...Vaicharik mahakumbh
Custom Text