गरीब खुश हुआ ,शाबासी देगा

Read Time2Seconds

 

 

pradeep upadhyay
गरीब तब भी खुश था जब कहा गया था कि दिल्ली से एक रूपया चलता है और गरीब तक पन्द्रह पैसे ही पहुँचते हैं।गरीब तब भी खुश हुआ था,शाबासी दी थी।गरीब आज भी खुश है जब कहा जा रहा है कि दिल्ली से एक रूपया चलता है और गरीब तक सौ पैसे पहुँच रहे हैं।वह आज भी खुश हुआ है और शाबाशी दे रहा है। क्योंकि उसकी यही खुशकिस्मती है कि रूपया उसके लिए चल कर आ रहा है कितना निकला है और कितना पहुँचा है इसका टेंशन वह पाल भी नहीं रहा है।पहले भी नहीं पाला,आगे भी नहीं पालेगा।गरीब जानता है कि उसे कोई हिसाब नहीं लगाना है।क्योंकि उसके हिसाब लगाने से होना भी क्या है।पहले भी जो कहा गया, वह भी सच ही रहा होगा और आज भी जो कहा जा रहा है उसे भी सच तो मानना ही पड़ेगा।आखिर वह इन बातों को झूठा कैसे साबित कर सकता है।

गरीब और गरीबी के मसीहा तो चहुंओर हैं।जो सरकार में हों वे भी और जो विरोध में हों वे भी! क्योंकि गरीबी शाश्वत है और गरीब भी शाश्वत है और इन्हें बनाए रखने वाले भी। ये दोनों अन्योन्याश्रित जो ठहरे।आदमी पैसे से अमीर हो भी जाए तब भी उसके साथ गरीबी जुड़ी रहना लाजमी है।उसे दिल से गरीब होना ही पड़ता है।इसीलिये जब जेब से खर्च करने की बात आएगी तो आदमी को अपने दिल की गरीबी का ख्याल आ जाता है और जब किसी ओर के पैसे खरचना हो तो दिल दरिया हो जाता है तब तो रूपये पैसे को दरिया की तरह बहाया जा सकता है।सरकारी खजाना भी कुछ इसी तरह का दरिया है जिसे उसके काबिजदार दरिया की तरह बहा देते हैं।हाँ, इस खजाने के साथ बपौती की बात इसलिए नहीं जोड़ी जा सकती क्योंकि बपौती का धन ऐसे नहीं बहाया जाता।

बहरहाल,पैसा तो अपनी गति से अपनी सही जगह पहुँच ही जाता है।यह तो दरिया के पानी जैसा है,जहाँ जगह मिली अपनी जगह बना ही लेता है।बहते पानी को भला कोई रोक सका है आजतक!

वैसे भी गरीब आदमी को इस बात से कोई सरोकार भी नहीं कि ऊपर से कितना पैसा चला और कितना उस तक पहुँचा।क्योंकि जिस तरह से भारतीय अर्थव्यवस्था मानसून पर निर्भर करती है ठीक उसी तरह से गरीब का चूल्हा दिल्ली और उसके जैसी अन्य दरियाओं से बहने वाले रूपये पर निर्भर करता है।रूपया बहेगा तो चूल्हा जलेगा।पानी भी ऊपर से नीचे की ओर बहता है तो दूसरी ओर रूपया भी ऊपर से नीचे की ओर ही आता है।कुछ पानी भूखी प्यासी जमीन सोख लेती है तो कुछ हवा संग उड़ जाता है ऐसा ही कुछ रूपये के साथ भी है।कुछ रूपया बड़े पेट वाले भूखे प्यासे लोग डकार लेते है और कुछ हवा में लहराता रहता है,ठीक बिन बरसे मानसूनी बादलों की तरह!जब रूपया गरीब के पास पहुँचता है तो वह उसके अन्नदाता के नाम का चढ़ावा अलग से रखता ही है।वैसै भी गरीब के हिसाब में तो सौ पैसे ही लिखे जायेंगे न।जिसके नाम का पैसा उसी के खाते में ही तो चढ़ेगा!भेंट पूजा,चढ़ावा कभी अलग से तो दर्शाया भी नहीं जाता है।वह उसी के खाते में लिखा जाएगा तब भी वह खुश है।कम से कम रूपया उसके लिए चलकर आ तो रहा है,उसका बहाव अवरुद्ध तो नहीं हुआ है।

परिचय

नाम- डॉ प्रदीप उपाध्याय

वर्तमान पता- 16,अम्बिका भवन,उपाध्याय नगर, मेंढकी रोड,देवास,म.प्र.

शिक्षा – स्नातकोत्तर

कार्यक्षेत्र- स्वतंत्र लेखन।शासकीय सेवा में प्रथम श्रेणी अधिकारी के पद से सेवानिवृत्त

विधा- कहानी,कविता, लघुकथा।मूल रूप से व्यंग्य लेखन

प्रकाशन- मौसमी भावनाएँ एवं सठियाने की दहलीज पर- दो व्यंग्य संग्रह प्रकाशित एवं दो व्यंग्य संग्रह प्रकाशनाधीन।

देवास(मध्यप्रदेश)

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

राखी

Mon Aug 27 , 2018
एक राखी का बंधन , उन भाइयों के नाम , जिन्होंने दिलाया , देश को ऊँचा आयाम , एक राखी देश की ओर से , जिन्होंने किया है रक्षा , देश के हर छोर से , एक राखी उन शहीदों के नाम , जो मर मिटे देश की रक्षा में […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।