चलते रहो बढ़ते रहो

Read Time1Second
neera jain
लक्ष्य को पाने के लिए
चल पड़ो, जिधर लें चले कदम,
सुबह शाम की हो फिकर
न धूप छाँव का हो असर,
स्निग्ध सी मुस्कान हो,
हौसला बुलंद हो
जीत का जुनून हो
चलते रहो बढ़ते  रहो
हृदय में सुंदर गान हो,
अवसान भी हो जाये तो,
चलते रहो,चलते रहो,
मुश्किलें गर  लाख आये
कंटक बिछे हो राह में,
न हो हाथ कोई हाथ में,
न होना विचलित कभी
डिगो नहीं, न उदास हो,
चलना ही अपना धर्म है,
श्रम से साधे ,वही कर्म है,
सत्य अन्वेषण करो,
जीवन के धारा प्रवाह में–
चलते रहो,बढ़ते रहो।
कश्ती तेरी छोटी सही,
रक्तिम भले आकाश हो,
नदिया की बहती धार संग,
बहते चलो,बढ़ते चलो।
मंज़िल तुझे पुकार रही
बढ़ते चलो चलते चलो
#नीरा जैन 
पता  जयपुर (राजस्थान)
शिक्षा Ba Ma BJMC MJMC…..
लेखिका कवियत्री एंकर मोटिवेशनल स्पीकर ओर आकाशवाणी जयपुर में उदघोषक
प्रकाशन ..समाचार पत्र पत्रिकाओ में लेख प्रकाशित
सदल सुगंध.शब्द शब्द महक.साहित्य उदय , साहित्य कुंदन संगम संकल्पना सांझा काव्य संग्रह में रचनाये प्रकाशित
पुस्तक करियर इन मीडिया प्रकाश्य 
विश्व हिन्दी रचनाकार मंच से वरिष्ठ हिंदी कवियत्री सम्मान 
कविता लोक सृजन  संस्थान से साहित्य सुधाकर संम्मान 
कृतिकार संस्थान की तरफ से साहित्य कुंदन पुरस्कार
पर्यावरण. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ.कन्या भ्रूण जैसे मुद्दों पर जागरूकता को आगे बढ़ाया।
समाज सेवा…बच्चो ओर महिलाओ के विकास के लिए कार्यरत
हरियाणा करनाल से महिला सशक्तिकरण पर कार्य करने हेतु राष्ट्र रतन पुरस्कार से सम्मानित
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कर्म

Thu Jul 26 , 2018
कोई कर्म बुरा न हो कोई शत्रु हमारा न हो मीत करे हर किसी से कोई अपना ,पराया न हो भाषा संयम बनाकर रखे मुंह मे मिठास घोलकर रखे गैर भी अपना मानने लगे बेगानेपन का साया न हो परमात्मा को भूले नही जमीन अपनी छोड़े नही निरहंकार भरा जीवन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।