बेटी घर की छाया है

0 0
Read Time3 Minute, 2 Second
cropped-cropped-finaltry002-1.png
ताटंक छंद
बेटी नहीं किसी से कम हैं
                बेटी जग की माया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                बेटी घर की छाया है
बेटा यदि कुल का दीपक है
               बेटी उसकी बाती है
बिन बेटी के नहीं घरों में
               कभी रोशनी आती है
बेटा बेटी भेद न पालो
                यही भाव मन भाया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                बेटी घर की छाया है
बेटी शादी होने पर भी
                अपना धर्म निभाती है
बेटा यदि मुँह मोड़े घर से
                 बेटी आस जगाती है
बूढ़े माँ बापों की लाठी
               बनकर के दिखलाया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                   बेटी घर की छाया है
सुख दुख जैसे बेटा बेटी
               दोनों घर की आशा है
हिन्दी अंग्रेजी जैसे दो
                आज हमारी भाषा है
 बेटा बेटी बहना भाई
               संस्कारों से पाया  है
बेटा यदि है धूप घरों की
               बेटी घर की छाया है
 ऊँचे पद पर बैठ बेटियाँ
                 सारा देश चलाती हैं
राजनीती में आगे बढ़ के
                  सोये भाग्य जगाती हैं
बेटी स्वाभिमान भारत का
              भाव सभी मन आया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                  बेटी घर की छाया है
सीमा की रक्षा करना भी
                अब बेटी को आता है
तोप और बन्दूक चलाना
                अब बेटी को भाता है
 जल,नभ सैनिक,पायलेट भी
                बनना उसको आया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                  बेटी घर की छाया है
जितना आज कमाते लड़के
            उससे अधिक कमाती हैं
बेटा नहीं अकेला घर में
                  बेटी साथ निभाती हैं
बेटी भावी जग की जननी
                  मातृ रूप भी पाया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                   बेटी घर की छाया है
जल,नभ,भू का कोई कोना
               आज न इनसे खाली है
फिर भी रुढ़िवाद पीढ़ी ने
                  निन्दित सोचें पाली हैं
बेटी अखिल विश्व की आशा
                 यही जगत ने पाया है
बेटा यदि है धूप घरों की
                 बेटी घर की छाया है
नाम –राजेन्द्र शर्मा राही
पिता का नाम -स्व.श्री सुन्दरलाल शर्मा राही
विधा -छंदबद्ध कविता ,गज़ल,लेख
सम्मान मैथलीशरण गुप्त सम्मान,साहित्य सौरभ सम्मान,शिव सम्मान,राष्ट्रभाषा आचार्य सम्मान,म.प्र.साहित्यरत्न सम्मान ऐसे अनेक सम्मान
कृतियाँ -चेतना के स्वर ,एक संकलन प्रकाशन की तैयारी में,पत्र पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशन,मंचों पर रचना पाठ
पता-359 गोयल विहार,खजराना गणेश मंदिर के पास इन्दौर म.प्र।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

इसको तो हिंदुस्तान कहो

Mon Jun 4 , 2018
  हिंदी है भाषा मात्र नहीं भारत माता का मान कहो। यह मानवता का जन्मपत्र इसको तो हिंदुस्तान कहो।         इसको संतों के आश्रम में        मर्यादाओं ने पाला है ।        इसकी साँसों में यज्ञ ,गन्ध         ऋषियों -मुनियों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।