साहित्य मंडल, बुद्धिस्ट समाज एवं युवा वायु के संयुक्त तत्वावधान में सफल विराट कवि सम्मेलन

0 0
Read Time3 Minute, 58 Second

गोंदिया। नगर की एकमात्र साहित्यिक संस्था साहित्य मण्डल, बौद्धिष्ट समाज संघ एवं साप्ताहिक समाचार पत्र युवा वायु के संयुक्त तत्वावधान में विराट कवि सम्मेलन का आयोजन संथागार, क्रीड़ा संकुल के पास, गोंदिया में किया गया।
इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार एवं कवि श्री माणिक गेडाम ने की। प्रमुख अतिथि के रूप में साहित्य मण्डल के उपाध्यक्ष श्री रमेश शर्मा, वरिष्ठ साहित्यकार श्री युवराज गंगाराम, संथागार व्यवस्थापक श्री रोशन मडामे, साप्ताहिक समाचार पत्र युवा वायु के संपादक श्री अखिलेश यादव मंच पर उपस्थित थे।
प्रारंभ में मंचासीन अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ देकर किया गया। इसी अवसर पर कवि श्री मनोज बोरकर ‘मुसव्विर’ का भी उनका जन्मदिन होने पर शॉल श्रीफल एवं पुष्पगुच्छ देकर अभिनंदन किया गया। साथ ही केक काटकर जन्मदिन मनाया गया। सभी कवियों एवं उपस्थितों ने उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी।
तत्पश्चात देश के प्रख्यात कवि श्री मंतोष मजूमदार, इलाहाबाद (उत्तरप्रदेश) के शानदार मंच संचालन में विभिन्न क्षेत्रों से आए प्रख्यात कवियों ने काव्यपाठ किया।
इन आमंत्रित कवियों में श्री प्रणय श्रीवास्तव ‘अश्क़’, वारासिवनी (मध्यप्रदेश), श्री प्रदीप दर्शन, झालीवाड़ा (मध्यप्रदेश), श्री किशोर सागर, बालाघाट (मध्यप्रदेश), श्री लक्ष्मीचंद ठाकरे, डोंगरिया (मध्यप्रदेश), श्री कुंजकिशोर विरूरकर, बालाघाट (मध्यप्रदेश), श्री सुदामा आक्रांत, नागपुर (महाराष्ट्र), श्रीमती अस्मिता आरजू, बालाघाट (मध्यप्रदेश), श्री रमेश शर्मा, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री माणिक गेडाम, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री प्रकाश मिश्र, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री छगन पंचे छगन, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री सुरेश बंजारा, नागपुर (महाराष्ट्र), श्री युवराज गंगाराम, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री असीम आमगांवी, आमगांव (महाराष्ट्र), श्रीमती प्रियंका रामटेके सजल, आमगांव (महाराष्ट्र), श्री मनोज बोरकर मुसव्विर, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री निखिलेशसिंह यादव, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री रूपचंद जुम्हारे, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री हलचल बालाघाटी, बालाघाट (मध्यप्रदेश), श्री नन्दू वानखड़े, वाशिम (महाराष्ट्र), डॉ. नूरजहाँ पठान, गोंदिया (महाराष्ट्र), श्री हेमंत ईमानदार आमगांव महाराष्ट्र ने जानदार काव्यपाठ किया। आरंभिक कार्यवाही का संचालन छगन पंचे ने एवं आभार मनोज बोरकर मुसव्विर ने माना।
कार्यक्रम के सफलतार्थ आयोजक समिति ने अथक परिश्रम किया। स्नेहभोज के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

matruadmin

Next Post

साहित्यकार प्रो. शरद पगारे आज प्रतिष्ठित 'व्यास सम्मान' से होंगे विभूषित

Wed Jan 11 , 2023
इंदौर। साहित्य के क्षेत्र में देश में ज्ञानपीठ के बाद सबसे बड़ा पुरस्कार माने जाने वाला के. के. बिड़ला फॉउंडेशन का वर्ष 2020 के लिए तीसवां ‘व्यास सम्मान’ भारत के जाने-माने साहित्यकार प्रो. शरद पगारे को 11 जनवरी को सायं 5 प्रेस क्लब इंदौर में एक गरिमामय कार्यक्रम में प्रदान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।