काव्य सम्मेलन के माध्यम से विश्व साहित्य नारी कोष ने मनाया वट सावित्री व्रत

2 0
Read Time3 Minute, 55 Second

कलम की सुगंध विश्व साहित्य नारी कोष के तत्वावधान में वट सावित्री अमावस्या के शुभ अवसर पर काव्य सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में
संस्थापक संजय कौशिक विज्ञात, अध्यक्ष अनिता भारद्वाज अर्णव ,मुख्य अतिथि मंशा शुक्ला जी ,विशिष्ट अतिथि हर्षा देवांगन की उपस्थिति में कार्यक्रम का सुंदर आयोजन किया गया।
वट सावित्री व्रत पर विभिन्न विधाओं में काव्य की सरस धारा फूट पड़ी।
अनिता मंदिलवार सपना ने दोहा छंद में कहा सीखो बरगद पेड़ से साथ अटल रहे आप।अपने रीति रिवाज में दिखती इनकी छाप।
वीरांगना श्रीवास्तव ने इस अवसर पर गाया कल कल नदिया बहे मन में हलचल मचे,याद आई पिया की तो आँसू झरे।
अर्चना पाठक निरंतर ने वट सावित्री कथा को दोहा छंद में सुनाया
वट पूजन यह खास है,रहे अखंड सुहाग। सावित्री सम पतिव्रता,होता दूर विहाग।
चमेली कुर्रे सुवासिता ने सुंदर दोहा पढ़ा पूजा कर वट वृक्ष के, जोड़ो दोनों हाथ।
माता सवित्री सा वचन, रखो हृदय में साथ।।
गीता दुबे ने कहा राजा अश्वपति की बेटी सावित्री संतान थी। राज ऋषि का अभिमान यह देवी का वरदान थी।
पूनम दुबे ने मधुर स्वर में गाया वट वृक्ष पर भाँवर लेकर करती भरपूर कामना साथ लिए मंगल धागा माँगे सिंदूर हमेशा साधना।
गीतांजलि जी ने सावित्री गौरव गाथा
आल्हा छंद में कहा -भारत की इक सति अनुपम, युग युग जग में जिसका गान।
सावित्री शोभा वसुधा की, सत्यवान भर्ता गुणवान॥
राधा तिवारी राधे गोपाल उत्तराखंड से वट सावित्री पर्व पर,कर लो तुम उपवास।सभी सुहागिन कर रही,है पीपल से आस की प्रस्तुति दी।
डॉ. सीमा अवस्थी ने कहा वृक्षों के सरताज को पूज रहा संसार।सेवा वंदन कामना ,हरा भरा परिवार।आशा उमेश पांडेय ने करती पूजन वट सदा, सुहागिनें हैं जान। सौभाग्य वती कामना माँगे है वरदान जैसे दोहों की सुंदर प्रस्तुति दी।
चंद्रकिरण शर्मा ने कहा करें आराध्य से विनती निभाये सात जन्मों तक । विशिष्ट अतिथि हर्षा देवांगन ने सुंदर रचना दौर चल रहा महामारी का अक्सीजन दर घट रहा अपार।विपदा हर लो प्रभु हमारी लगा दो जीवन नैया पार की प्रस्तुति दी।मुख्य अतिथि मंशा शुक्ला ने तुम ही धूप तुम ही छाया की मधुर प्रस्तुति दी।
कार्यक्रम का सफल संचालन धनेश्वरी सोनी गुल ने किया। आभार प्रदर्शन मंच संचालिका अर्चना पाठक निरंतर ने किया। पटल प्रभारी अनिता मंदिलवार सपना विश्व साहित्य नारी कोष के सफल निर्देशन में यह कार्यक्रम संपन्न हुआ।कलम की सुगंध के संस्थापक गुरुदेव संजय कौशिक विज्ञात की छंद साधना सभी की रचनाओं में परिलक्षित होती दिखाई दी।

matruadmin

Next Post

बाल निषेध दिवस

Sun Jun 13 , 2021
पूर्व में किये थे अच्छे कर्म तभी तो पाया मनुष्य जन्म। क्या मनुष्य जन्म मिलना ही इस दुनियाँ में काफी है ? सोचो समझो और करो विचार फिर निभाओं अपना दायित्व यार। क्या हम दे पा रहे है अपने बच्चों को अच्छे संस्कार।। पेटकी भूख मासूम बच्चों से क्या कुछ […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।