लिखता रहा….

0 0
Read Time42 Second

अपने दिल की हर बात लिखता रहा
दिन क्या तमाम रात लिखता रहा

एक पल भी आया न मुझको सुकून
मैं अपने ही हालात लिखता रहा

लम्हा कभी खुशी का तो कभी गम का
खुद से ही किये सवालात लिखता रहा

लोग शायर मुझको समझने लगे
जबकि मैं अपने ख्यालात लिखता रहा

टीस को समझे ही नही वाह कहते रहे
दो पल की थी मुलाकात लिखता रहा

मिट्टी से उपजा हूँ, मिट्टी में दफन होना है
मैं अपनी इतनी सी औकात लिखता रहा

-किशोर छिपेश्वर”सागर”
भटेरा चौकी
बालाघाट

matruadmin

Next Post

कलम के सिपाही कमल

Sat Mar 13 , 2021
कलम के सिपाही कमल ने मूल्यों के लिए अलख जगाई अध्यात्म का हो समावेश पत्रकारिता ऐसी सिखाई सात्विकता का पाठ पढ़ाया सच का आईना दिखलाया ब्रह्माकुमारीज से स्वयं को जोड़ा चरित्र निर्माण का अभियान छेड़ा स्वच्छ पत्रकारिता के प्रहरी थे वे कमल दीक्षित शिव प्यारे थे वे वे देह छोड़ […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।