गणतंत्र दिवस

0 0
Read Time4 Minute, 3 Second

आजादी के झंडे को हम ,
आत्मविश्वास से फहराएंगे ,
जीवन की उपलब्धियों को हम ,
देश के नाम करायेंगे ,

संविधान के अनुच्छेदों को ,
शब्द-शब्द हम देश के काम लाएंगे ,
आजादी के लहू को हम ,
जीवन भर याद रखेंगे ,

26 जनवरी को शपथग्रहण कर ,
सविधान की लाज बचायेंगे ,
आजादी के वीर सपूतों को हम ,
जिंदगी भर यादों मे समेट कर रखेंगे ,

अंग्रेजो के काले कारनामें ,
कभी ना हम भूल पायेंगे ,
जीवन भर की लालसाएं ,
भारत माँ के चरणों में लौटाएंगे ,

माँ भारती को सोने की चिड़ियाँ,
फिर से हम बनायेंगे ,
आतताइयों की बदसूरती से ,
सदा भारत माँ को बचाएंगे ,

लालकिले पर गणतंत्र का ,
झंडा हम लहराएंगे ,
अपने आजाद भारत का हम ,
सविधान कभी ना भूल पायेंगे ,

विश्व का सबसे बड़ा लिखित सविधान का ,
गौरव हम हमेशा बढ़ाएंगे ,
448 अनुच्छेद , 12 अनुसुचियां , 25 भाग को ,
और 5 परिशिष्ठ को
हमेशा जीवन में अपनाएंगे ,

हम अपने भारतीय संविधान को ,
दुनिया मे श्रेष्ठ बनायेंगे ,
248 सदस्यों की महान पोथी में वर्णित
विश्व के श्रेष्ठतम नियमों को अपनाएंगे ,

मेरा अपना भारतीय संविधान ,
2 साल 11 महीने 18 दिन मे ,
बनके जो तैयार हुआ है ,
उसकी हम लाज बचायेंगे ,

भारत के वीर शहीदों का ,
खून से लथपथ धरती माँ का ,
गाँधी , भगत , सुभाष , चंद्रशेखर का ,
जीवनचरित्र ना भूल पायेंगे ,

आजादी के दीवानों मे ,
लाल , पाल , बाल से लेकर ,
उधम सिंह , राजेन्द्र , पटेल , शास्त्री का ,
हमेशा नाम उचाईयों पर ले जायेगें ,

वीर शिवाजी,लक्ष्मीबाई, सावरकर, वीर कुंवर ,
का नाम कभी ना ,
मिटने देंगे और ना मिटायेगे ,

आजादी के पावन अवसर का ,
धर्म, कर्म, सिद्धांतो से ,
अपने सविधान को ,
पूरे विश्व मे हमेशा ,
सर्वश्रेष्ठ बनायेंगे !

रुपेश कुमार
सीवान(बिहार)

शिक्षा ~ स्नाकोतर भौतिकी,बी.एड(फिजिकल सांइस),ए.डी.सी.ए(कम्प्यूटर)
वर्तमान ~ प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी !
प्रकाशित पुस्तक ~ दो पुस्तक “मेरी कलम रो रही हैं”, “मेरी अभिलाषा”(काव्य संग्रह)एवं आठ साझा संग्रह, एक अंग्रेजी मे !
जल्द प्रकाशित ~ “मेरा भी आसमान नीला होगा” (काव्य संग्रह) एवं प्रतियोगीता परीक्षा की पुस्तक, एवं विज्ञान की पुस्तक !
सम्पादक – काव्य संसार एवं नई नौहबहार
विभिन्न राष्ट्रीय-अन्तराष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं मे सैकड़ों से अधिक कविता,कहानी, गजल ,लेख प्रकाशित !
सम्मान – राष्ट्रीय साहित्यिक संस्थानों से 250 से अधिक सम्मान प्राप्त !
शौक ~ वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखना , विज्ञान एवं साहित्य की किताबें पढ़ना, मोटीवेशन करना !
रूचि ~ साहित्य को विज्ञान की दृष्टिकोण से लिखना , सभी विषयों में परिपूर्ण बनना!
हमेशा दिखा ~ वे की दुनिया से दूर रहना !
सदस्य ~ भारतीय ज्ञानपीठ (आजीवन सदस्य)
राष्ट्रीय महासचिव ~ राष्ट्रीय आंचलिक साहित्य संस्थान(रजिं) ,भारत

matruadmin

Next Post

साँसे दे दूंगा

Mon Jan 25 , 2021
दिल करता है मेरा, जिंदगी तुझे दे दू। जिंदगी की सारी खुशी तुझे दे दू। दे दे अगर तू मुझे, भरोसा अपने दिलका। यकीन करले तू मेरा, दे दूंगा अपनी साँसे।। दिया है अब तक साथ, आगे भी उम्मीद रखता हूँ। तेरे जैसे दोस्त को, अपने दिलमें रखता हूँ। और […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।