ब्रह्माकुमारीज के वैश्विक शिखर सम्मेलन जुट रहे है दुनिया के नामचीन लोग

3 0
Read Time6 Minute, 6 Second

एकता,शांति और सम्रद्धि के लिए अध्यात्म जरूरी विषय पर ब्रह्माकुमारी का वैश्विक शिखर सम्मेलन 27 सितम्बर से 1 अक्टूबर तक आबू रोड़ के शांतिवन जो कि ब्रह्माकुमारीज का अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय भी है,के भव्य परिसर में आयोजित हो रहा है।इस सम्मेलन के उद्घाटन अवसर पर 28 सितम्बर को भारत के उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू,राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र,मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के साथ साथ प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की मुख्य प्रशासिका 104 वर्षीय दादी जानकी,संस्था महासचिव बीके निर्वेर भाई वैश्विक शिखर सम्मेलन का मुख्य आकर्षण होंगे।हालांकि सम्मेलन की शुरुआत 27 सितम्बर को स्वागत समारोह से ही हो जाएगी,जिसमे केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल समेत कई जज,राजदूत,विभिन्न क्षेत्रों की शीर्ष हस्तियां शामिल हो रही है।
दुनियां के 137 देशों में साढ़े आठ हजार सेवा केंद्रों के माध्यम से ब्रह्माकुमारीज संस्था से जुड़े 15 लाख भाई बहन परमात्मा शिव द्वारा प्रदत्त ज्ञान संसार भर में बांटकर संसार को विकारो से मुक्त कर व सद्गुणों को फैलाकर चरित्र निर्माण का अनूठा अभियान चला रही है।संस्था के इसी अभियान से दुनिया के शीर्ष लोगो को रूबरू कराने और ब्रह्माकुमारीज संस्था द्वारा तैयार मूल्यपरक शैक्षणिक पाठ्यक्रम को विभिन्न शिक्षण संस्थाओं में लागू कराकर नई पीढ़ी का भविष्य संवारने की तैयारी का हिस्सा ही यह वैश्विक शिखर सम्मेलन कहा जा सकता है।सम्मेलन के सूत्रधार संस्था के कार्यकारी सचिव व शिक्षा प्रभाग प्रमुख बीके मृत्युंजय भाई ने बताया कि इस सम्मेलन में जानी मानी जीवन प्रबन्धन प्रेरक बीके शिवानी,संस्था की अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका बीके रतनमोहिनी दादी,वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके शीलू बहन,ज्ञानामृत पत्रिका के मुख्य सम्पादक बीके आत्म प्रकाश भाई,मीडिया प्रभाग प्रमुख बीके करुणा भाई के साथ साथ केंद्र व राज्य सरकारों के करीब एक दर्जन मंत्री,डेढ़ दर्जन सांसद,विभिन्न राज्यो से तीन दर्जन से अधिक विधायक, कई उच्चकोटी के सन्त,दुनिया मे अपने विशिष्ट सेवा कार्यो से चर्चित हस्तियां, विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति, प्रतिकुलाधिपति,कुलपति,विभिन्न शीर्ष स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रमुख, केंद्र व राज्य स्तर के अनेक नोकरशाह ,मीडिया क्षेत्र से की जानी मानी हस्तियां, पदम् पुरुस्कारों से सम्मानित अनेक विभूतियां इस वैश्विक शिखर सम्मेलन का खास आकर्षण है।सम्मेलन में 27 सितम्बर से लेकर एक अक्टूबर तक कई नियमित मेडिटेशन सत्र चलेंगे ,साथ ही कई पैलनरी सत्र भी विषय पर केंद्रित रहेंगे।सम्मेलन में जिन विषयो पर चर्चा हो रही है उनमें सामाजिक दायित्व के लिए मीडिया की भूमिका, वैश्विक रूपांतरण के लिए नारी शक्ति का योगदान, नई शिक्षा से नई दुनिया बनाने की सोच,ईश्वरीय ज्ञान बौद्धिकता से मानव ह्रदय परिवर्तन, समाज मे सामाजिक न्याय की स्थापना, पर्यावरण संरक्षण के प्रति प्रोत्साहन ,अच्छी दुनिया बनाने के लिए विज्ञान व प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भी अध्यात्म जरूरी,संसार को सुखद व स्वस्थ बनाने के लिए पवित्र जीवन एक उपाय आदि विषय समाहित किये गए है।इस सम्मेलन में श्री वेंकटेश्वर विश्विद्यालय जहां ब्रह्माकुमारीज का मूल्यपरक शिक्षा पाठ्यक्रम अपनाने जा रहा है,वही 17 विश्वविद्यालय पहले से ही इस पाठ्यक्रम का लाभ अपने विद्यार्थियों के लिए उठा रहे है।सम्भावना है कि मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक नई शिक्षा नीति के तहत ब्रह्माकुमारीज के मूल्य परक शिक्षा पाठ्यक्रम को देशभर में लागू कराने की दिशा में पहल करें,ताकि देश की युवा पीढ़ी का चरित्र निर्माण हो सके और एक बेहतर कल व एक बेहतर भारत का सपना साकार हो सके।
#डॉ श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जिसके पास लाइसेंस उसके नाम वाहन

Mon Sep 23 , 2019
केंद्र सरकार ने मोटर वाहन अधिनियम लागू क्या किया देश में गजब की हलचल मच गई। इसमें यातायात सुरक्षा के साथ-साथ यातायात स्वच्छता और स्वस्थता दिखाई पड़ी। कानून के मुताबिक नियम, कायदों को तोड़ने पर सक्त कार्रवाई और भारी जुर्माने का कड़ा प्रावधान है। यह पहले भी कम सीमा में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।