यह देश है हमारा

0 0
Read Time2 Minute, 55 Second

archana dube

है राह यह सुहाना, चाहे शीश हो कटाना ।
तुम सुन लो देशवासी, यह देश है हमारा ।
भारत के ऐ सपूतों, विश्वास को जगाओं ।
कमजोर करके दुश्मन को, देश से भगाओं ।
छायी रहे सदा ही, स्वाधीनता की लाली ।
आजाद हुई जननी, छाये सदा हरियाली ।
आकाश में लहराओं, तुम देश का तिरंगा ।
हर – मन प्रसन्न होकर, जय हिंद – गान गाये ।
उस लाल किले ऊपर, फहरे तिरंगा प्यारा ।
तुम सुन लो देशवासी, यह देश है हमारा ।

जय हिंद की धरा पर, गोरों का कैसे हक था ।
हर भारतीय बहादुर,खाया भी यह कसम था ।
करते थे कैसे पीड़ित, पूर्वज कोवो हमारे ।
हक छीन लो तुम अपना, जननी तुम्हें पुकारें ।
डर – भय को त्याग करके,हाथों में भाल ले लो ।
आवेश को जगाओं, उत्साहित होकर जाओं ।
दुश्मन नटिकने पाये, उन्हें देश से भगाओं ।
तुम सुन लो देशवासी, यह देश है हमारा ।

गाँधी – सुभाष – नेहरू, आजाद – भगत – विस्मिल ।
सुखदेव – वीरअब्दूल, थे वीर साहसी वो ।
जिनके हृदय में जागी, पीड़ित है अपनी जननी ।
सर पर कफन को बांधे, निकली थी ऐसी टोली ।
दुश्मन के खून खेले, स्वतंत्रता की होली ।
गोरों तुम्हें है जाना, भारत है यह हमारा ।
दुश्मन को खेद करके, वीरों ने गान गाया ।
तुम सुन लो देशवासी, यह देश है हमारा ।

परिचय-

नाम  -डॉ. अर्चना दुबे

मुम्बई(महाराष्ट्र)

जन्म स्थान  –   जिला- जौनपुर (उत्तर प्रदेश)

शिक्षा –  एम.ए., पीएच-डी.

कार्यक्षेत्र  –  स्वच्छंद  लेखनकार्य

लेखन विधा  –  गीत, गज़ल, लेख, कहाँनी, लघुकथा, कविता, समीक्षा आदि विधा पर ।

कोई प्रकाशन  संग्रह / किताब  –  दो साझा काव्य संग्रह ।

रचना प्रकाशन  –  मेट्रो दिनांक हिंदी साप्ताहिक अखबार (मुम्बई ) से  मार्च 2018 से ( सह सम्पादक ) का कार्य ।

  • काव्य स्पंदन पत्रिका साप्ताहिक (दिल्ली) प्रति सप्ताह कविता, गज़ल प्रकाशित ।

  • कई हिंदी अखबार और पत्रिकाओं में लेख, कहाँनी, कविता, गज़ल, लघुकथा, समीक्षा प्रकाशित ।

  • दर्जनों से ज्यादा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रपत्र वाचन ।

  • अंर्तराष्ट्रीय पत्रिका में 4 लेख प्रकाशित ।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गणतंत्र

Sat Jan 26 , 2019
गण का तंत्र एक विचार विषय संविधान ही है इसका परिचय मूल भावना ही आहत होती संशोधनों से भर गई पोथी जिसकी भी जब सत्ता आई उसने अपनी अपनी चलाई जाति धर्म सब एक समान थे भारतीयता ही एक पहचान थे पर वोट ने हम सबको बांटा जाति धर्म से […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।