“किसान की दशा”

0 0
Read Time1 Minute, 57 Second
pushpa sharmashpa
shrama
kusum
ग्रीष्म के तेवरों से हुए ठूँठों में कहीं -कहीं कोंपल फूटी है।
समय पर न बरसी बरसा से अच्छी फसल की आशा टूटी है।
फिर भी बच्चों संग नानू किसान लगा हुआ है खेतों में।
अरमान भरा थैला उसका दबा हुआ है धोरों की रेती में।
अनिश्चितता ओं का डेरा उकेरता चेहरे की गहरी लकीरों को।
धीरज धर मेहनत में रत दोनों सोचरहे अन्न वस्त्र के फेरों को।
वर्ष भर भरे पेट, सभी का पट भी रह जाये तन ढकने को
बने औषधी मर्ज कर्ज की फिर राशि  कुछ बच जाये तो ।
ऐसे में उसकी हर ऋतु ताना बाना बुनते ही निकली जाती है।
बच्चों की माँगें ,सपने -अपने
उर -उदधि तंरग उछल रह जाती है।
अन्नदाता की यह स्थिति सदियों से  ही चलती  आ रही।
उपेक्षित किसान वर्ग की करुण गाथा सब को ही सुना रही।
#पुष्पा शर्मा 
परिचय: श्रीमती पुष्पा शर्मा की जन्म तिथि-२४ जुलाई १९४५ एवं जन्म स्थान-कुचामन सिटी (जिला-नागौर,राजस्थान) है। आपका वर्तमान निवास राजस्थान के शहर-अजमेर में है। शिक्षा-एम.ए. और बी.एड. है। कार्यक्षेत्र में आप राजस्थान के शिक्षा विभाग से हिन्दी विषय पढ़ाने वाली सेवानिवृत व्याख्याता हैं। फिलहाल सामाजिक क्षेत्र-अन्ध विद्यालय सहित बधिर विद्यालय आदि से जुड़कर कार्यरत हैं। दोहे,मुक्त पद और सामान्य गद्य आप लिखती हैं। आपकी लेखनशीलता का उद्देश्य-स्वान्तः सुखाय है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अंग्रेजी की अराजकता में मातृभाषा कैसे बचाएं?

Wed Sep 12 , 2018
भारत के राष्ट्रपति एम वेंकेया नायडू ने अभी दो माह पूर्व दिल्ली स्थित आर. के. पुरम में आन्ध्रप्रदेश एजुकेशन सोसायटी के स्थापना दिवस पर नए भवन का शिलान्यास किया था तब उन्होंने स्कूलों में मातृभाषा को एक अनिवार्य विषय के तौर पर पढ़ायें जाने की सलाह सभी राज्यों को दी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।