ज्ञाननिधान

0 0
Read Time1 Minute, 13 Second
punam katariyar
शिक्षक-दिवसविशेष……………..
आलोक-स्तंभ तुम, गुरु महान,
तुमको प्रणाम,कोटि प्रणाम।।
प्राप्य तुम्हें,प्रभु सेअमिट वरदान,
अनगढ़ माटी को गढ़ते, दे ज्ञान
क्षुधातुर मेधा हो जब हकलान,
कराते तुम निरंतर अमृतपान।
तुमको प्रणाम, कोटि प्रणाम।।
छा जाते हो बन अरूण तिग्म,
तिमिरमय  हमारे  जीवन  में.
सौरभ -सा  रच -बस गए हो,
युग-युग से हमारे अंतस्थल में.
छात्र जीवन के अभिमान तुम,
तुमको प्रणाम, कोटि प्रणाम।।
 शब्द  कम पड़ जाते है,
अव्यक्त भाव रह जाते हैं.
उऋण नहीं हो सकते हैं ,
बस,इतना ही कह पाते हैं.
संपूर्ण-जगत् के ज्ञाननिधान,
जीवन को देते आकार तुम
तुमको प्रणाम, कोटि प्रणाम।।
#पूनम( कतरियार)
नाम-   पूनम (कतरियार)
जन्म-स्थान :हजारीबाग(झारखंड)
शिक्षा–   एम.ए.(हिन्दी साहित्य)
संप्रति  –  लेखन
पता   –   पटना(बिहार)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बज चुका आरक्षण के खिलाफ पाञ्चजन्य, संकट में भाजपा

Tue Sep 4 , 2018
समाज के सुधार के पहले क्रम में जातिवाद के समूल नाश के आगे एक राष्ट्र -एक कानून और एक तरह के लाभ की बात रखी जाती थी, राजनीति की सदैव से मंशा तो तरफदारी की रही परन्तु इस बार अनुसूचित जाति,जनजाति की सबलता के लिए बनाये गए अधिकार और संरक्षण […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।