तू मेरे एकान्त का एकान्त है कैसे कह दूँ कि मुझे प्यार नहीं साँसों की लड़ियों में गुँथे हुऐ लम्हों के मनके मुझे प्रेम प्रस्ताव ज्ञापित करते हैं क्यों कह दूँ कि मुझे स्वीकार नहीं, शब्द निरस्त हो जाते हैं अधरों पर आकर जैसे लहरें साहिल पर तन्य तारों के […]

  भूख तुम कुछ भी हो कविता नहीं हो/ कहानी,ग्रंथ,निबंध भी नहीं; सब भोथरे है तुम्हारे आगे, बदलती रही है प्रासंगिकता इनकी समय के साथ / तुम नहीं बदली तुम्हारा होना ही प्रमाण है, तुम्हारी अमरता का सदियों से विचरती रही तन मन धन के वास्ते कभी “मधु” के चावल […]

तन वृन्दावन हो गया,मन पूरा ब्रजधाम। सांस-सांस राधा रटे,धड़कन-धड़कन श्याम॥ ब्रजरज की महिमा भला,समझ सका है कौन। राधा-राधा रट रहा,जिसका कण-कण मौन॥ जब-जब तेरे द्वार पर,आया मेरे श्याम। रसिक शिरोमणि कर दिया,तूने मन ब्रजधाम॥ राधा के आँसू लिए,रोता है अविराम। प्राणों के ब्रजधाम में,आ जाओ घनश्याम॥         […]

  मुरली,माखन,प्रीति  है,कृपा मिले अभिराम। ब्रजवासी फिर मुक्ति क्यों,चाहेगा घनश्याम!॥ जड़-चेतन,चर-अचर सब,मोहे खोकर ध्यान। हुई अचेतन सृष्टि सब,सुन मुरली की तान॥ भागीं मधुवन के लिए,बूढ़ी,बाल-जवान। हुईं गोपियाँ बावलीं,सुन मुरली की तान॥ झूमें,नाचे चर-अचर,भूल देश,गति,काल। कान्हा की बंशी बुने,सम्मोहन का जाल॥                     […]

तेरे प्रेमी भक्त हैं,कान्हा!कई करोड़। सबके मन से किस तरह,करते हो गठजोड़? मधुबन्ती ब्रजभूमि में,कान्हा मधु का धाम। मधुमय वंशी स्वर सरस,मधुमय राधा नाम॥ रुदन देती कभी,देती हँसी ललाम। कान्हा!तेरी बाँसुरी,गूंज रही अविराम॥ छोड़ गए ब्रज में रुदन,पीड़ा,व्यथा अनंत। कहो द्वारिकाधीश! कब,होगा इनका अंत ?॥           […]

कण-कण राधा-रस सना, तृण-तृण श्याम -स्वरूप। क्षण-क्षण छवि छलके मधुर, रंग राग  रसरूप॥ मन होगा मुरली मधुर, तन  वृंदावन धाम। आएंगे तब प्राण में,  रसवर्षी घनश्याम॥                                                 […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।