वो तीनों समाज की प्रतिष्ठित महिलाएं थी। सम्भ्रांत और आदर्श परिवार की मुख्य महिलाएं। समाज और परिवार में परिचित और आदरणीय। समाज के हर खुशी और गमी के कार्यक्रम में शामिल होती। तीनों की दोस्ती जगप्रसिद्ध थी। समाज की किसी भी बैठक में,कार्यक्रम में हमेशा सुझाव दिया करती और समाज […]

आई बारिश की फुवार,झूमे–झूमे म्हारो मालवो, म्हारा मालवा को कई केणों,यो तो है दुनिया को गेणों इका रग-रग मे बसयो है दुलार,झूमे झूमे म्हारो मालवोl आई बारिश की……ll मालव माटी गेर गंभीर,डग-डग रोटी पग-पग नीर, यां की धरती करे नित नवो सिंगार, झूमे-झूमे म्हारो मालवोl आई बारिश की……ll यां की […]

1

मो संग करी बड़ी नादानी ,न आऊँ तोरे द्वार पिया, मैं भोली सीता बन आई ,तुमने तो अविश्वास किया। पाप इंद्र का मढ़ मेरे सर ,पाषाणों-सा श्राप दिया मैं बावरी न मानी,फिर द्रौपदी का अवतार लिया, द्वापर मैं चौसर की खातिर ,लगा दांव पर मुझे दिया जितनी सीधी मैं बन जाती ,तुम बनते बेईमान पिया… मो संग करी बड़ी नादानी ,न आऊँ तोरे द्वार पिया ……..।। […]

शहर के नामी कॉलेज में  रामायण  का मंचन चल रहा था। राम 14 वर्षों का वनवास काटकर,रावण पर विजयश्री प्राप्त कर अयोध्या लौट आए थे। तभी एक आदमी (जो पेशे से  धोबी था) रास्ते में अपनी पत्नी को पीट रहा था और कहता जा रहा था-`जा,चली जा यहाँ से,मैं कोई प्रभु श्रीराम नहीं हूँ जो पर-पुरुष के साथ रही स्त्री को अपने घर में रख लूँ।` ये सुनकर श्रीराम जी ने भी अपनी  पत्नी के आगे अग्नि परीक्षा की शर्त रख दी। इतनी बड़ी बात सुनकर सीता ने चौंककर श्रीराम की और देखा फिर तल्ख़ आवाज़ में बोली-`चाहे मर्यादा पुरुषोत्तम हो या साधारण पुरुष,स्त्रियों के प्रति दोनों का रवैय्या एक-सा ही रहता है। मैंने आपके लिए 14 वर्ष वनवास में बिताए,अपने राजसी ठाठ-बाट छोड़कर में आपके साथ कंटीले रास्तों पर चली। क्या मेरा ये कहना कि,रावण ने मुझे छुआ तक नहीं,आपके लिए विश्वास योग्य नहीं है ? इससे पहले कि आप अपनी गर्भवती पत्नी का त्याग करें,मैं स्वयं ही आपको छोड़कर जा रही हूँ। जो व्यक्ति अपनी पत्नी के नहीं,दूसरों के वचनों पर विश्वास करता है,वो साथ रहने योग्य नहीं है। सीता के मुख से ये सुनकर श्रीराम के साथ अयोध्यावासी भी हतप्रभ थे। साथ ही दर्शकों से खचाखच भरा हॉल भी निस्तब्ध था। नाटक के निदेशक को लगा,सीता बनी सुनिधि  अपने डायलाग भूल गई है,वे इशारों मेंसे सीता को समझाने का प्रयास कर रहे थे। तभी मंच के पीछे से तालियों की आवाज़ आई। ये तालियाँ कॉलेज की प्राचार्या मैडम बजा रही थी।अब वे माइक पर थी। उन्होंने बोलना शुरू किया-‘शाबाश,सुनिधि आज तुमने रामायण में नया अध्याय जोड़ दिया है,सीता को भी हक़ है कि वो राम को त्याग सके। शादी का बंधन विश्वास पर ही टिका होता है। अगर सम्बन्धों में विश्वास ही न रहे तो,साथ रहने का क्या फायदाl अरे आप लोचुप क्यों है,स्वागत कीजिए नव युग का,जहाँ नारी अपने निर्णय लेने में सक्षम है।  “और हॉल तालियों की गड़गड़ाहट के साथ हर्षध्वनि से भी गुंजायमान हो उठा।                                                                                 #सुषमा दुबे […]

आँगन में चिड़िया को देख मुझको बचपन याद आया, बचपन में माँ-बाबा कहते थे,मुझको गौरेया। माँ कहती थी चिड़िया जैसी दिनभर उड़ती फिरती है, बाबा कहते देखो कैसी चिड़िया जैसी चुगती है। न जाने कब उड़ जाएगी गौरेया जैसी है बिटिया, खूब प्यार से रखते,मैं तो समझ न पाती उनकी […]

3

ज्योत से ज्योत मिले, सुन सखी.. आज मैं तुझसे ही सम्बोधन करती हूं, अपने मन के अंजुली भर भावों को तुझको ही अर्पण करती हूं। हर बार इन पुरूष पुंज को कहना जरुरी तो नहीं, हर भाव को ग़ज़ल या गीत में ढालकर इनको बताना अब रुचता नहीं। अपने संवेगों […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।