कहाँ गये सब छोड़ के इसे आज अकेला बंजर है । ना कोई पंछी है साथी ना गगन में घन बरसाती । दुर्बलता से सहता है नित, आज हृदय में थर थर है। अब बसंत की बात कहाँ बाजों से बरबाद जहाँ तितर- भीतर होगये   पंछी देख अजब सा मंज़र […]

पाय  लागु  कहते  हैं,  डांट – बाट सहते हैं दया  से  करोगे    मत  , आप  पछताओगे। शिशु को  सँवारते हैं, बालों को  निहारते हैं नाख पोंछ  दृश्य  देख  , आप  बहजाओगे। आपसे वे लेते सेल्फी,मुँह में लगा के कुल्फी ठण्ड  करवाने  से  ही, आग  भूल  पाओगे। नोट पांच सौ […]

नीर से अमृत को बनने मथन कितना सहा होगा । टक   टकाया   हथौड़े ने, छीर  दी   छैनी   की  धार शिल्प या पनघट की धातु घाव   से    होता   उद्धार टूटती जब ये शिला ने सपन कितना बुना होगा मथन कितना सहा होगा। इस धरा की कोख में सब निक्षिप्त वस्तु […]

सत्य सरल व्रत नहि रहा,पग-पग कंटक राह, इच्छा अरु संकल्प से,पाते निश्चित चाह पाते निश्चित चाह,रखें नित प्रयास ज़ारी, लक्ष्य रखें नित नैन,कल्पना हो नित भारी होता है दुत्कार,पियें जा नित्य गरल धत, अविचल हृदय “विराट”,बनें यह सत्य सरल व्रत॥                     […]

मनमोहन  मौनी  रहे,मोदी  में  प्रतिशोध, प्रथम  देश अरु धर्म  है,करते  वो संबोध करते वो  संबोध,घूस  न  कोई  कमाए, कभी  न  होवे न्यून,विश्व  में पांव जमाए कह ‘विराट’ कविराय,बनें हम शक्तिमान जन, रोजगार हर हाथ,तभी हर्षित होगा मन॥                           […]

विरह हृदय पर नयन पसारो॥ श्यामल अंबर वृंदावन है,आओ कुंज  विहारो। कंचन तन अरु मन मधुवन है,आकर  मोहिं निहारो। सकल जगत निष्प्राण हुआ ज्यों,उर जड़ता को हारो। राधा हूँ,पिय अंतर्मन की,इव दुख बोझ उतारो। मधुर मिलन को मैं हूँ प्यासी,अब तो आप पधारो॥     #श्रीमन्नारायणाचार्य ‘विराट’ Post Views: 253

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।