करते है रक्षा अपनी और अपने लिए ही मरते हैं। अपनों के सुख-दुख के खातिर वो सीमा पर लड़ते हैं।। जान भले चले जाये लेकिन, आन-बान और शान रहे। मतलब नहीं दुनियादारी से ,जिंदा हिंदुस्तान रहे।। माँ-बेटी और पत्नी-बहन को छोड़ के ये चले आते है। देश की रक्षा के […]

पूज्य पिता जी की बाहों में, जीने का किरदार छिपा हैll ममतामई माँ के *रिश्ते* में, अमर प्रेम संसार छिपा हैll बहिना के राखी धागों में, पूजा पुण्य प्रणाम छिपा हैll नमन वंदना करके देखो, सच में चारों धाम छिपा हैll पिता-पुत्र के *रिश्ते* में, साहस त्याग निदान छिपा हैll […]

न जाने कहाँ खो गया वह प्यारा चांद का टुकड़ा, जिसे मैं दिन और रात अपलक निहारता रहता था! जिसके बिना मुझे नहीं मिलता था सुकून एक पल का। आज मुझे फीका-फीका सा लग रहा है चांद भी। और धीरे-धीरे घट रहा है अमावस की तरह और लगता है कि […]

जी हाँ मित्रों! नेतृत्व करना एक ख़ास कला है ,जो सामान्य व्यक्तित्व के अन्दर नहीं होती। श्रेष्ठतम लीडर वही बन पाता है ,जो लोगों के दिलों पर राज करता है  और जिसकी personality को हर कोई स्वीकारता है। ऐसे व्यक्ति के साथ काम करने वाले लोग अपना सब कुछ उस पर […]

आज गर्व के साथ हम यह कह सकते हैं कि हम विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का हिस्सा हैं। “लोकतंत्र” यानी शासन व्यवस्था की वह प्रणाली जिसमें हर बार जनता को अपना भाग्यविधाता चुनने का अवसर मिलता है। इसी लिए देश के किसी न किसी हिस्से में हर वर्ष चुनाव […]

होली का त्योहार निराला है है भैया। हर एक रंग की शान निराली है भैया।। 1. लाल रंग खतरे का सूचक, हरा रंग हरियाली का। केसरिया है त्याग शौर्य का, श्वेत रंग खुशहाली का।। आपसी भेदभाव भुलाकर, प्रेम करो तुम सब भैया..।। …… होली का त्योहार 2. होली के दिन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।