आल्हा छन्द* (हिन्दी भाषा पर) हम सबका अभिमान यही है , इससे सबकी है पहचान। सबसे प्यारी हिंदी भाषा, इसमें बसी हमारी जान।। मान बढ़ाती हम सबका यह, फिर भी इससे हम अनजान। सहज, सरल, मनभावन है ये, हिन्दुस्तां की ऊँची शान।। #कृष्ण कुमार सैनी”राज” दौसा,राजस्थान  Post Views: 153

आज फिर लिखना         चाहुँगा । एक बात है जो कहना         चाहुँगा ॥ हर सक्स खो गया, मोबाइल मस्ती में । बस अब कुकुर भौंकते है, हर बस्ती में फेसबुक-व्हाट्सप पर सबने, समय की मात्रा दुगुनी कर दी । जहाँ खेलते खेल कबड्डी, […]

1

कैसी थी कैसे खींचतान हो गई, मैं अब वीरों से वीरान हो गई । थी खुशियों की बौछार जहाँ, अब देखो खुला मैदान हो गई ॥ देख मानव का मानव से नृसंहार, लो मैं अब श्मशान हो गई ॥ कैसी थी कैसे खींचतान हो गई, मैं अब वीरों से वीरान […]

क्यूं कोसते हो उन लम्हों को, वो जिंदगी भी तो आप ही ने जी थी.. क्यूं कहते हो कि मैं मजबूर हूं, वो मजबूरी भी तो अपने सिर आप ही ने ली थी। क्यूं समझते हो उन लम्हों को बैखौफ, उन लम्हों की शुरुआत भी आप ही ने की थी। […]

अबके युग में घर बनवाना सबके बस की बात नहीं, महंगाई में दीए जलाना सबके बस की बात नहीं। गिट्टी-मोरम सरिया आदि सब बाबा के मोल हुए– अपने घर पर छत लगवाना सबके बस की बात नहीं॥                           […]

किसी बेदर्द से जज्बात का इजहार मत करना, भले ही दाब कर भेंटे कभी व्यवहार मत करना, बड़ा आसान-सा है आजकल दिल से भुला देना.. कभी भी हुस्न पर ‘नीरव’, किसी से प्यार मत करना । तुम्हारा नाम सुनते ही, हमारी आंख भर आई.. तुम्हारी बेवफाई चोट बनकर फिर उभर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।