Author Archives: Arpan Jain

Uncategorized

माँ का क़र्ज़

कैसे चूका पाउँगा माँ तेरे कर्ज को, मुझे प्राण देने के तेरे फ़र्ज को. सौ बार सोचा करूँ तेरे लिए कुछ अनोखा, पर दुनिया उसे सोचे  धोखा, कैसे दूर  कर पाउँगा माँ…
Continue Reading
Uncategorized

वो ज़िंदगी 

वो ज़िंदगी में काश दुबारा मिले कभी जैसे कि टूट कर के सितारा मिले कभी उम्मीद जागती है जो ये दिल में बारहा मौजे रवाँ है इसको किनारा मिले कभी…
Continue Reading
Uncategorized

इंसान की तरह जीता हूँ

हालात के मारे हार जाता हू, कई बार फिर भी खड़ा हो जाता हूँ हर बार, बार बार इंसान हूँ, इंसान की तरह जीता हूँ टूटा हुआ पत्थर नहीं जो फिर ना जुड़ पाऊँगा। तेज धूप के बाद ढलती हुई साँझ आती जाती देख रहा बरसों से इसलिए चुन लेता हूँ हर बार नये नहीं होता निराश टूटे सपनो से। क्या हुआ जो पत-झड़ में तिनके सारे बिखर गये चुन चुनके तिनके हर बार नीड नया बनाऊँगा। इंसान हूँ, इंसान की तरह जीता हूँ टूटा हुआ पत्थर नहीं जो फिर ना जुड़ पाऊँगा। # डॉ. रूपेश जैन "राहत"
Continue Reading
Uncategorized

अखिल भारतीय स्तर पर बाल साहित्य सम्मानों हेतु आमन्त्रण

आकोला | "राजकुमार जैन राजन फाउंडेशन, आकोला (राज.) द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर पिछले 12 वर्षों से नियमित प्रदान किये जा रहे बाल साहित्य सम्मानों  2018 हेतु अपनी उपलब्धियों का…
Continue Reading
Uncategorized

मगर देर से

ईश्वर को ढूढ़ने निकली थी मिला मुझे वो देर से खुदा भी मिल जाता मुझे पर पता चला कुछ देर से । इत्तेफाक ही था जो निश्छल मुस्कुराहट देखने मिली…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है