Tag archives for arpan jain

Uncategorized

वो औरत एक मां है

मां को समर्पित लफ़्ज़ों में भरे जज़्बात... मदर्स डे स्पेशल उलझे हुए से फिरते हैं नादिम सा एहसास लिए दस्तबस्ता शहर में वो नूर है अंधेरे गुलिस्तां में । डरावने ख़ौफ़…
Continue Reading
Uncategorized

जिद्दी खबरों का आईना…

* अर्पण जैन 'अविचल' वो भी संघर्ष करती है, मंदिर-मस्जिद की लाइन-सी मशक्कत करती है, वो भी इतिहास के पन्नों में जगह बनाने के लिए जद्दोहद करती है, लड़ती- भिड़ती…
Continue Reading
Uncategorized

कुनबे की कलह से ढहेगा समाजवादी साम्राज्य

समसामयिक: अखिलेश यादव के पार्टी से निष्कासन पर विशेष  अर्पण जैन 'अविचल' यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार,…
Continue Reading
Uncategorized

गाँव में खबरों का कुँआ है

अर्पण जैन 'अविचल' ये उँची-लंबी, विशालकाय बहुमंज़िला इमारते, सरपट दौड़ती-भागती गाड़ीयाँ, सुंदरता का दुशाला औड़े चकमक सड़के, बेवजह तनाव से जकड़ी जिंदगी, चौपालों से ज़्यादा क्लबों की भर्ती, पान टपरी…
Continue Reading