राम सबको प्रिय रहें ऐसा चुने हम मार्ग मर्यादा की रक्षा करें करे राम का ध्यान मन वचन कर्म से बने हम सत्यानुगामी राम चरित्र सबसे बड़ा हो उनके हम अनुगामी मन्दिरो में भी रहे राम चौराहों पर भी हो राम प्रेरक है राम का नाम राम सभी को भाता […]

झूठे वायदों की चाशनी में पक रही है चुनाव की खीर वोटर राजा को लुभाने में नेताजी हो रहे धीर गम्भीर पांच साल तक जहां गए नही वही बहा रहे घड़ियाली आंसू कैसे मिले सत्ता की कुर्सी आइडिया सोच रहे कोई धांसू पर वोटर राजा समझ रहे है नेताजी के […]

शराब कभू न पीजिए,ये है विष समान। इससे न होत है,जीवन का कल्याण।। शराब है नहीं समस्या का समाधान। इसके होत है हमेशा ही बुरे परिणाम।। शराब जल्दी करती है मरने की तैयारी। पीते रहोगे इसको,जल्दी घेरेगी बीमारी।। डेली पीने वालों के होते हैं घर बर्बाद। उनके घर में होते […]

सुहानी यादों को मैं आज ताजा कर रहा हूँ। बैठकर बाग में उस चाँद को पहले की तरह ही आज। अपनी आँखो से तुम्हें देखकर उसी दृश्य की परिकल्पना कर रहा हूँ।। ओढ़कर प्यार की चुनरिया, चांदनी रात में निकलती हो। तो देखकर चांद भी थोड़ा, मुस्कराता और शर्माता है। […]

जीवन परमात्मा की देन है जीवन को न तू अपना मान जीवन के हर एक क्षण को जीवन का अंतिम क्षण मान हर क्षण पुरुषार्थ का हो ध्यान मिले सदा ही प्रभु का ज्ञान निरहंकार रह जीवन जियो जीवन अमानत प्रभु की जान कर्म कोई ऐसा न होने पाये जिससे […]

बेशक शब्दों में चिंगारी रखो लेकिन अच्छे लोगों से यारी रखो कवि हो तुम कवि धर्म तुम्हारा निष्पक्ष अपनी कलमकारी रखो कहते हैं आईने हो तुम समाज के बेशक लेखन अपना जारी रखो कहते हो गर कलमकार खुद को कलम के प्रति वफ़ादारी रखो लोग चाटुकारिता पर उतर आए शर्म […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।