हमारे देश के व्रत त्योहार हमारी गौरवशाली परंपरा और संस्कृति का दर्पण हैं। देश की अनेकता में एकता की जो झाँकी दिखाई देती है उसमें हमारी समृद्ध परंपराओं और पर्वों का विशेष योगदान है। पहले तो गांवों में वसंत पंचमी से ही फागुनी गीतों की बयार बहने लगती थी। महीने […]

खतों की बात पुरानी हो चली… वो भी क्या दिन थे जब खतों में दिल का हाल लिखा जाता था…कोरे कागज पर जज़्बात उकेरे जाते थे.. लफ़्जों में अहसास पिरोये जाते थे… पढ़ने वाला भी उसी शिद्दत से हर्फ़ दर हर्फ़ महसूस करता था…खत भेजने में भी वही शिद्दत होती […]

एक बार एक कार से स्कूटर की टक्कर हो गई। जो नौजवान कार चला था बाहर निकलकर स्कूटर वाले को गुस्से में बोला…’मैं गोवा के पुलिस कमिश्नर का बेटा हूँ’…स्कूटर वाले ने मुस्कुराते हुए कहा…’मैं गोवा का मुख्यमंत्री हूँ…’ ऐसे ही थे मनोहर पर्रिकर। हर कोई उनकी सादगी का कायल […]

एक नारी को बेटी, बहन, पत्नी और माँ के रूप में सृष्टि का अद्भुत वरदान प्राप्त है। इस देश में मातृशक्ति के रूप में नारी की पूजा की जाती है। जिस मिट्टी में हमने जन्म लिया वह भारत माता कहलाती है। माता पिता के समस्त संचित पुण्यकर्मों के फल के […]

डा. स्वयंभू शलभ ‘यंग इंडिया चेंज मेकर अवार्ड 2019’ से नवाजे जाएंगे। यंग इंडिया फाउंडेशन द्वारा यह अवार्ड उन्हें  ‘कल्चरल एक्टिविज्म एवं सोशल रिफोर्मेशन’ हेतु प्रदान किया जाएगा। इसकी घोषणा करते हुए यंग इंडिया फाउंडेशन के चेयरमैन विपुल शरण श्रीवास्तव ने कहा कि हमें गर्व है कि डा. शलभ सर […]

देश के लिए पुलवामा हमले के दर्द से उबर पाना आसान नहीं है। 46 वीर जवानों की शहादत लंबे समय तक टीस देती रहेगी… पिछले सप्ताह इस आतंकी हमले के दौरान मातृभूमि के लिए जान न्योछावर करने वाले वीर जवानों की शहादत से पूरे देश में शोक का माहौल बना। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।