तासी ने इतिहास रचाया। पीछे रामचंद्र ने गाया।। आदिभक्तिअधु रीति बनाई। चारभाग संवत में गाई।। खुसरो जग विद्या वरदाई। चारों आदि कवि कहलाई।। रामकथा तुलसी ने गाई। बीजक कबीरा कही सुनाई।। मीरा सूरा खान बखाना। नंद चतुर्भुज वल्लभ जाना। रामा तुलसी नाभा गाते। अग्र ह्रदय प्राणा भी आते।। सेन भगत […]

(सचिन तेंडुलकर के जन्मदिन पर) जय सचिन क्रिकेट के तारे। तुम्हरे बल्ले से सब  हारे।। मुम्बई में जनम तुम पाया। भीम शिवा-सा नाम कमाया।। मां रजनी ने दूध पिलाया। अजित अंजली साथ निभाया सोलह बरस की उमर थी भाई। अभिमन्यू  की  याद दिलाई।। पहला  मैच  पाक  से खेला। अकरम की […]

रससुजान रसखान है,मीरा के पद पूर। सुर-सुरा साहित्य लहरी,ग्रंथ रचे हैं सूर।। अष्ट छाप वर्णन किए,राधेश्यामा गीत। गली-गली गावत फिरे,मुरली में संगीत।। कृष्ण चतुर परमानन्द,गोविंद कुंभनदास। सूर नंद अरु छीतकवि,अष्टछाप के खास।। (‘हिन्दी दोहावली’ के इतिहास खंड भक्तिकाल से दोहा)          #डाॅ. दशरथ मसानिया Post Views: 150

दो सहस अरु चहोत्तर,नवसंवत् का आन। विक्रम तेरे राज का,जग करता है गान।। अवंती विक्रम की पुरी,राजा थे बलवान। दूध पानी-सा न्याय करे,कहते कवि मसान।। झरना भी अब सूखते,नदियाँ भई उदास। फसलें खेत बहार हैं,मास चैत बैसाख।। नए साल के आवते,फूले फूल पलाश। पेड़ों की कोपल चली,नव पल्लव की आस।। […]

इस जग में है बहु विज्ञाना, भौतिक रस अरुजीव समाना। भौतिक बाहर अंत रसायन, प्राणी पौधे जीवा आयन। चुम्बक विद्युत ध्वनि प्रकाशा, धरती तारे भौतिक खासा। जल जीवन है जल है आशा, जल संरक्षण जल विश्वासा। जल को रोके करें सिंचाई, जल से बिजली मिलती भाई। जल से करते साफ-सफाई, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।