आशाओं के पंख

3
Read Time3Seconds
vijay chouhan
७० साल की वृद्व माताजी,अब पैरों से कम ही चल पाती,इसलिए बेटा माताजी के लिए इस तनख्वाह पर व्हील चेयर( पहिया कुर्सी) ले आया। मां की खुशी का भी ठिकाना ना रहा। अब वह पूरे घर में कुर्सी पर बैठकर घूम सकेगी,आंगन में उड़ती चिड़िया और गुनगुनी धूप का आनन्द ले सकेगी,इस ख्याल ने बुढ़ापे में आशाओं के पंख से लगा दिए। खुशी ने पहला पायदान भी पूरा नहीं किया था कि,परदे के पीछे बहू-बेटे में वाकयुद्व चरम पर जा पहुंचा। बर्तन खनकने की आवाज पूरे घर में गूंजने लगी। तकरार की वजह मां की कुर्सी रही। वाकयुद्व को भांपते हुए मां ने बेटे को बुलाया और कुर्सी में मीन-मेक, नुक्ता-चीनी करते हुए बेटे से लौटाने का आग्रह किया। मां की बातों को आज्ञा मानते हुए बेटे ने कुर्सी लौटा दी। मां की आंखों में गृहशांति के लिए त्याग भावना तो दूसरी ओर बहू को पहिया कुर्सी के बदले ४००० रुपए वापस आने की खुशी नजर आ रही थी।

#विजयसिंह चौहान

परिचय : विजयसिंह चौहान की जन्मतिथि  ५ दिसंबर १९७० और जन्मस्थान इन्दौर हैl आप वर्तमान में इन्दौर(मध्यप्रदेश)में बसे हुए हैंl इन्दौर शहर से ही आपने वाणिज्य में स्नातकोत्तर के साथ विधि और पत्रकारिता विषय की पढ़ाई की हैl आपका  कार्यक्षेत्र इन्दौर ही हैl सामाजिक क्षेत्र में आप सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय हैं,तो स्वतंत्र लेखन,सामाजिक जागरूकता,तथा संस्थाओं-वकालात के माध्यम से सेवा भी करते हैंl विधा-काव्य,व्यंग्य,लघुकथा व लेख हैl उपलब्धियां यही है कि,उच्च न्यायालय(इन्दौर) में अभिभाषक के रूप में सतत कार्य तथा स्वतंत्र पत्रकारिता में मगन हैंl 

0 0

matruadmin

3 thoughts on “आशाओं के पंख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मेरे गांव के बच्चे

Thu Jan 25 , 2018
सुना है अब मेरे गांव के, सारे बच्चे बड़े हो गए… कोई हिन्दू तो कोई, मुसलमान हो गए… खैर ये तो मजहब की बात है, पर वे बड़े छुपे रुस्तम से हो गए… यकायक ही एक दुजे के, वो दुश्मन से हो गए… पलट कर देखा जब जिदंगी को, कुछ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।