हम बालक नादान मैया

Read Time4Seconds
budhhi prakash
हम बालक नादान मैया,तेरी शरण में आए हैं।
दे दो हमको ज्ञान जरा-सा,तुझे रिझाने आए हैं॥
तू करूणा स्वरूपिनि माँ,तू ही ज्ञान की दाता है।
छोड़ कहाँ हम जाएं तुझको,तू ही हमारी माता है॥
रिश्ता है ये पावन अपना,तुझे बताने आए हैं…
ना कोई मंजिल हमारी,ना राहों का है पता।
तेरे चरणों में हम आए,तू ही हमको राह बता॥
भूले भटके ना कभी हम,तुझे मनाने आए हैं…
हम अज्ञानी बालक तेरे,ज्ञान हमें कुछ ना रहा।
स्वर-शब्दों को कैसे सीखें,अँधियारा भी  छा रहा॥
मन मंदिर में ज्योति जलाने,तेरे द्वारे आए हैं…
माता-पिता गुरुदेव का हम,जीवनभर सम्मान करें।
देश की रक्षा करें सदा हम,मन में नव उत्थान भरें॥
ऐसा दो वरदान ‘मन’ को,हाथ पसारे आए हैं…
हम बालक नादान मैया,तेरी शरण में आए हैं॥

#बुद्धि प्रकाश महावर ‘मन’

परिचय : बुद्धि प्रकाश महावर का साहित्यिक उपनाम-मन है। आपकी जन्म तिथि-३ जुलाई १९७६ है। वर्तमान में-जिला दौसा (राजस्थान) के ग्राम मलारना में रहते हैं। शिक्षा- एम.ए.(हिंदी) तथा बी.एड. है। कार्यक्षेत्र में अध्यापक हैं। सामाज़िक क्षेत्र में-सामाजिक सुधार कार्यों,बेटी बचाओ जैसे काम में सक्रिय रहते हैं। आप लेखन विधा में कविता,कहानी,लघुकथा, ग़ज़ल,गीत,बाल गीत आदि रचते हैं। प्रकाशन में ‘हौंसलों के पंखों से'(काव्य संग्रह) तथा ‘कनिका'( कहानी संग्रह)आ चुका है।  उपलब्धि-सम्मान के तौर पर बाल मुकुंद गुप्त साहित्यिक सम्मान-२०१७, राष्ट्रीय चौपाल साहित्यिक सम्मान-२०१७ और राष्ट्रीय साहित्यिक संस्था द्वारा ‘तोषमणि’ अलंकरण मिलना है। आपकी नजर में लेखन का उद्देश्य-सामाजिक एवं राष्ट्रीय जागृति,आत्मखुशी और व्यक्तिगत पहचान बनाना है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वसंत की देवी

Mon Jan 22 , 2018
  ऋतुराज वसंत प्यारी-सी आई, पीले-पीले फूलों की बहार छाई। प्रकृति में मनोरम सुंदरता आई, हर जीव जगत के मन को भाई। वसुधंरा ने ओढ़ी पीली चुनरिया, मदन उत्सव की मंगल बधाईयाँ। आँगन रंगोली घर-द्वार सजाया, शहनाई ढोल संग मृदंग बजाया। वसंत पंचमी का उत्सव मनाया, मां शारदे को पुष्पहार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।