अनमोल

Read Time1Second
vijaykant
जीवन तो है यह अनमोल,
है ऋषियों-शास्त्रों के ये बोल।
धरा धाम पर नहीं अकारण,
आना हुआ लो मन में तौल॥
दीप निशा में तमस मिटाता,
ऊर्जा रोशनी है सूरज लाता।
है पवन किए जीवन्त जगत को,
पावस धरा की प्यास बुझाता॥
सौरभ सुमन विटप फल देते,
नदियाँ नीर विकल जल निर्झर।
कानन काष्ट पर्यावरण रक्षक,
और अमित हितकारी गिरिवर॥
निरुद्देश्य नहीं है किंचित कुछ,
ग्रह नक्षत्र धरा और अम्बर।
सौम्य सुखद रात चाँदनी या,
दिवस का रवि स्वर्णिम कर॥
मानव महत पुत्र ईश्वर का,
सकल जीव इसके अनुगामी।
पहुँचा चारपाई से चाँद तक,
विद्या कला विज्ञान में नामी॥
मन-मंदिर में जलते दीपक की,
बिन स्नेह लौ हो रही धीमी।
कहीं बढ़ी सभ्यता-लता को,
खा न जाए द्वेष हिंसा कृमि॥
खोले गाँठ उलझन की मानस से,
हे प्रेम परस्पर संग-संग डोले।
जगदीश्वर की ऩिर्मल साधना,
जग सुन्दर कर हरिहर बोले॥
नहीं अनमोल रत्न यह जीवन,
गृह कारज में ही खप जाए।
यह अनुपम उपहार प्रभु का,
मिले पुनः या न मिल पाए॥
         #विजयकान्त द्विवेदी 
परिचय : विजयकान्त द्विवेदी की जन्मतिथि ३१ मई १९५५ और जन्मस्थली बापू की कर्मभूमि चम्पारण (बिहार) है। मध्यमवर्गीय संयुक्त परिवार के विजयकान्त जी की प्रारंभिक शिक्षा रामनगर(पश्चिम चम्पारण) में हुई है। तत्पश्चात स्नातक (बीए)बिहार विश्वविद्यालय से और हिन्दी साहित्य में एमए राजस्थान विवि से सेवा के दौरान ही किया। भारतीय वायुसेना से (एसएनसीओ) सेवानिवृत्ति के बाद नई  मुम्बई में आपका स्थाई निवास है। किशोरावस्था से ही कविता रचना में अभिरुचि रही है। चम्पारण में तथा महाविद्यालयीन पत्रिका सहित अन्य पत्रिका में तब से ही रचनाएं प्रकाशित होती रही हैं। काव्य संग्रह  ‘नए-पुराने राग’ दिल्ली से १९८४ में प्रकाशित हुआ है। राष्ट्रीयता और भारतीय संस्कृति के प्रति विशेष लगाव और संप्रति से स्वतंत्र लेखन है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्रकाश

Wed Jan 17 , 2018
आओ सूरज की किरणों, तुम्हें अपनी बांहों में समेट लूँ, न फिर हो कहीं अंधेरा, किसी की जिंदगी की राहों में। न हो कोई बेबस,बेसहारा, किसी की निगाहों में, न हो कोई मजबूर, न हो कोई मजलूम कभी भी। हर मजबूर को थोड़ी-सी उम्मीद का प्रकाश दे सकूँ, इसलिए- आओ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।