तुम्हें एहसास नहीं

Read Time6Seconds

jayati jain

किसी की रूह से जुड़कर
उसका वजूद लूटने वाले
खुद की तलाश में मारा- मारा,
फ़िर रहा वो आवारा।
तुम क्या जानो-क्या होती है
तन्हाई,चीखती खामोशी,
तुम्हें एहसास नहीं कराया

मैंने बंद कमरे में कैद-घुटन का।
वो चिलमिलाती धूप-सी
चुभती तेरी यादें,

आंखों में खून ला देती हैं
लेकिन तुम तो ऐसे लोगों

से घिरी हो,

जैसे पतंग कटकर हवा के साथ नाचती है।
उस धागे को गौर से देख ए बे-गैरत,

तुझे नाज़ों से सम्भाला जिसने
अपने रुमानी अंदाज़ से
लुभाया जिसने,रातों को सजाया जिसने,
दूसरे से मोहब्बत जताता तेरा गुरूर
एक बार ऐसा तोड़ना है,
आ गिरे शाख से टूटे पत्ते की तरह
मेरी बांहों में,हवा का रुख

ऐसा मोड़ना है।
टूट कर बिखरेगी आएगी,
मेरी राह में गिड़गिड़ाती हुई

करवाऊंगा हर उस दर्दे-जख्म का एहसास,
जो हर रोज़ तू मुझे देती है
इक-इक अश्क दरपर्दा होकर।
जहन में क्रांति ला रहा है,
आंख से निकाल दर्द चार दीवारों में कराहकर छुपाया है मैंने।
हुस्न पे नाज़ बहुत है तुझे
ए नाजनीन,गैरों को आशिक बनाती है,
तड़पेगी जब बिकेगी हुस्ना

दो कौड़ी में गैरों के बाज़ार में।
वक्त अभी है लौटकर आज़ा सितमगर,
अभी जेहन में ऐतबार बाकी है,
कल तुझे फरागत न थी आज मुझे नहीं,
कहने को तैयार,वर्ना साकी है।

                #जयति जैन (नूतन)

परिचय: जयति जैन (नूतन) की जन्मतिथि-१ जनवरी १९९२ तथा जन्म स्थान-रानीपुर(झांसी-उ.प्र.) हैl आपकी शिक्षा-डी.फार्मा,बी.फार्मा और एम.फार्मा है,इसलिए फार्मासिस्ट का कार्यक्षेत्र हैl साथ ही लेखन में भी सक्रिय हैंl उत्तर प्रदेशके रानीपुर(झांसी) में ही आपका निवास हैl लेख,कविता,दोहे एवं कहानी लिखती हैं तो ब्लॉग पर भी बात रखती हैंl सामाज़िक मुद्दों पर दैनिक-साप्ताहिक अखबारों के साथ ही ई-वेबसाइट पर भी रचनाएं प्रकाशित हुई हैंl सम्मान के रुप में आपको रचनाकार प्रोत्साहन योजना के अन्तर्गत `श्रेष्ठ नवोदित रचनाकार` से समानित किया गया हैl अपनी बेबाकी व स्वतंत्र लेखन(३०० से ज्यादा प्रकाशन)को ही आप उपलब्धि मानती हैंl लेखन का उद्देश्य-समाज में सकारात्मक बदलाव लाना हैl

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

खल रही जिंदगी 

Tue Jan 16 , 2018
छल रही है जिंदगी, चल रही है जिंदगी। है कभी मिठास तो, है कभी खटास भी। महफिलें सजी हुई, है कभी वनवास भी॥ ढल रही है जिंदगी, चल रही है जिंदगी। उम्मीदों के तूफान है, डूब का अनुमान है। हौंसलों की नाव पर, किनारों का अरमान है॥ संभल रही है […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।