तुम पतंग

Read Time0Seconds
sunil choure
तुम पतंग
मैं धागा,
भाग्यवान तुम
मैं अभागा,
कर्तव्य निभाया
दृढ़ता से तुमने,
मैं भागा
तुम पतंग,
मैं धागा।
अपनी निष्ठा
शिष्टाचार से,
अपने सुलझे
विचार से,
अपनों के सहे
वार से,
अपने सुंदर
परिवार से
भूखा न जाने दिया
द्वार से,
इन्हीं सद्कर्मों की
वजह से
आपको काट,कोई
धागे से अलग न कर सका
इतने तक
धागे को ले साथ उड़ती रही
दूसरी पतंगों को
दे मार्गदर्शन,
आकाश में और ऊंचाई से
जुड़ती रही,
तभी तुम पर झपटा
यम रूपी कागा,
तुम पतंग
मैं धागा।
अंततः कब तक
इस लोक में
ऊंचाई लिए रहती ?
हवा के रुख को
कैसे और कब तक सहती ?
हवा के थपेड़ों से
तूंफा के बेड़ों से,
धागा भी थक चुका था
वे जीवित रहे
कट न जाए कहीं,
इसलिए धागा
कितनी जगह झुका था,
किन्तु सत्य को
कौन झुठला पाया,
पतंग धागे की जिंदगी से
कट गई,
छोड़ धागे को अकेला
न जाने क्यों हट गई ?
क्यों हट गई ?
क्यों-क्यों हट गई ?
             #सुनील चौरे ‘उपमन्यु’
परिचय : कक्षा 8 वीं से ही लेखन कर रहे सुनील चौरे साहित्यिक जगत में ‘उपमन्यु’ नाम से पहचान रखते हैं। इस अनवरत यात्रा में ‘मेरी परछाईयां सच की’ काव्य संग्रह हिन्दी में अलीगढ़ से और व्यंग्य संग्रह ‘गधा जब बोल उठा’ जयपुर से,बाल कहानी संग्रह ‘राख का दारोगा’ जयपुर से तथा 
बाल कविता संग्रह भी जयपुर से ही प्रकाशित हुआ है। एक कविता संग्रह हिन्दी में ही प्रकाशन की तैयारी में है।
लोकभाषा निमाड़ी में  ‘बेताल का प्रश्न’ व्यंग्य संग्रह आ चुका है तो,निमाड़ी काव्य काव्य संग्रह स्थानीय स्तर पर प्रकाशित है। आप खंडवा में रहते हैं। आडियो कैसेट,विभिन्न टी.वी. चैनल पर आपके कार्यक्रम प्रसारित होते रहते हैं। साथ ही अखिल भारतीय मंचों पर भी काव्य पाठ के अनुभवी हैं। परिचर्चा भी आयोजित कराते रहे हैं तो अभिनय में नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से साक्षरता अभियान हेतु कार्य किया है। आप वैवाहिक जीवन के बाद अपने लेखन के मुकाम की वजह अपनी पत्नी को ही मानते हैं। जीवन संगिनी को ब्रेस्ट केन्सर से खो चुके श्री चौरे को साहित्य-सांस्कृतिक कार्यक्रमों में वे ही अग्रणी करती थी।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पिता से ही पहचान

Tue Jan 16 , 2018
पिता,बेटे के होंठों पर मुस्कान करते हैं, मुश्किलें सारी आसान करते हैं। पिता होते है भगवान स्वरूप, जिसपे हम अभिमान करते हैं। मौजूदगी से महकता है घर-आंगन, पिता का हम गुणगान करते हैं। पिता की मेहनत से बनते हैं हम काबिल, पिता के दम से ही हम नाम करते हैं। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।