राष्ट्रीय ध्वज और भारतीय सेना को नमन…

Read Time4Seconds
kailash Singhal
( सशत्र सेना ध्वज दिवस पर विशेष)
राष्ट्रीय ध्वज
शौर्य शांति साहस,
तीन रंगों में
राष्ट्र प्रेम सन्देश
सेना को नमन है।
मैं गीत लिखूं
पर कैसे लिखूंगा,
मन के भाव
कागज़ पर लहू
के रंग में रँगे हैं।
गौरी के गाल
सियासत की चाल
जैसे लगते,
पायल लगे जैसे
ज़ंजीर हो पैरों में।
अधरों पर
कुछ लिखूं तो कैसे,
लाली लगती
सीमाओं पर खून
सेना का बहा जैसे।
मैं कैसे करुं
प्रणय निवेदन,
अभिसार में
आलिंगन के घेरे
लगते कैद जैसे।
ज़ुल्फ़ों पे लिखूं
पर कैसे लिखूंगा,
फंसी दिखती
जुएं भ्रष्टाचार की
ज़ुल्फ़-ए-खम में हैं।
जब तलक
देश की सीमा पर
खून बहेगा,
श्रृंगार शब्द कैसे
लिखे मेरी कलम।
मन लेता है
यह संकल्प मीत,
पहले दूर
करुंगा सीमा वाद
फिर लिखूंगा गीत।
हमने लिखे
हैं गीत उन पर,
शहीद हुए
सीमा पर जाकर
शत-शत नमन।
सीमा रक्षा में
प्राणों की आहुतियां,
सबसे बड़ी
इबादत हो गई
शहादत नमन।
जय हिंद में
राष्ट्र प्रेम बसा है,
पूजा पद्धति
सीमा रक्षा और
मंत्र ‘वंदे मातरम्’ है।

#कैलाशचंद्र सिंघल

परिचय: कैलाशचंद्र सिंघल का नाता मध्यप्रदेश से हैl आपकी जन्म तारीख- २० दिसम्बर १९५६ और जन्मस्थान-धामनोद(धार) हैl हायर सेकन्डरी तक शिक्षित श्री सिंघल का व्यवसाय(कॉटन ब्रोकर्स)हैl आप धामनोद में समाज की संस्थाओं से जुड़े हुए हैंl लेखन में आपकी विधा-हाइकु,तांका, गीत और पिरामिड हैl भोपाल से प्रकाशित समाचार-पत्र में कुछ रचनाएं प्रकाशित हुई हैं। पिछले 30 वर्ष से लेखन में मगन श्री सिंघल की खासियत यह है कि,कवि सम्मेलनों का सफल आयोजन करते हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-स्वान्तः सुखाय और दिवंगत कवियों की रचनाओं को मंचों पर सस्वर उनके नाम से प्रस्तुत करना है,जिसका पारिश्रमिक नहीं लेते हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दास्तां-ए-इश्क़

Fri Dec 8 , 2017
उनसे  दिल लगाना ता-उम्र की ……मुसीबत हो गई, आहें भरते रहने की अब तो हमें ……आदत हो गई। मूंदकर पलकें उन्हें हमने अपना….खुदा माना, सज़दे में उनके सिर झुका लिया… इबादत हो गई। शीशे-सा दिल अपना अब हम…. सम्भालें कैसे, जमीं पर जो पांव रखा उसने… नजाकत हो गई। बयां […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।