कैद

Read Time2Seconds
jyoti mishra
कभी-कभी औरत के हाथों की चूड़ियाँ बन जाती है हथकड़ी,
कभी-कभी औरत के पाँवों की पायल बन जाती पाँव की कड़ी।
जिंदगी जीती है औरत,पर नासूर की तरह रिस-रिसकर,
काजल बन जाता है,रात का अंधेरा,    नीर बहाती हैं आखें बड़ी-बड़ी॥
मांग में लगता है,सिन्दूर किसी अंगार की तरह दहकता-सा,
मन यूँ बन जाता है,जैसे ख़ुद की चिता की सूखी हुई लकड़ी।
बिछुए भी मारते हैं डंक किसी जहरीले बिच्छू की तरह,
महावर लगता है पाँवों से बहते हुए लहू की लम्बी-सी लड़ी॥
माथे का टीका औ होंठों की लाली भी भाती नहीं दिल को,
कुछ भी न भाता है,होंठों पर जम जाती है सूखी हुई पपड़ी।
नाजुक-सी लाड़ली गुड़िया थी,अपने अम्मा और बाबा की,
देखो बन जाती है पल ही में कितनी

और कितनी बड़ी॥

                            #डॉ.ज्योति मिश्रा
 परिचय: डॉ.ज्योति मिश्रा वर्तमान में बिलासपुर(छत्तीसगढ़) में कर्बला रोड क्षेत्र में रहती हैं। आपकी उम्र करीब ५८ वर्ष और शिक्षा स्नातकोत्तर है। पूर्व प्राचार्या होकर लेखन से सतत जुड़ी हुई हैं। प्रकाशन विवरण में आपके नाम साझा काव्य संग्रह ‘महकते लफ्ज़’ और ‘कविता अनवरत’ है तो,एकल संग्रह ‘मनमीत’ एवं ‘दर्द के फ़लक’ से है। कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में कविताएं छप चुकी हैं।आपको युग सुरभि,हिन्दी रत्न सहित विक्रम-शिला हिन्दी विद्यापीठ (उज्जैन,२०१६),तथागत सृजन सम्मान,विद्या-वाचस्पति,शब्द सुगंध,श्रेष्ठ कवियित्री (मध्यप्रदेश),हिन्दीसेवी सम्मान भी मिल चुका है। आप मंच पर काव्य पाठ भी करती रहती हैं। आपके लेखन का उद्देश्य अपनी भाषा से प्रेम और राष्ट्र का गौरव बनाना है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वापस आओ,बुलाऊं

Fri Nov 10 , 2017
रूठे-रूठे यार मनाऊं, लिखूं कविता उसे सुनाऊं। दिल की धड़कन वो बन जाए, मैं उसकी तड़पन बन जाऊं। बेचैनी-बेताबी का आलम, कदम सम्भालो,मैं समझाऊं। दूर-दूर होने में क्या है, चूर-चूर न मैं हो जाऊं। तेरी बातों का ही असर, मत रूठो,मैं न खो जाऊं। ‘मनु’ पुकारे आ भी जाओ, कहीं […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।