`बुद्धिमान व्यक्ति जीवनभर अध्ययन करता है`

Read Time4Seconds

cropped-cropped-finaltry002-1.png

ऊपर दिया गया कथन प्राचीन ऋषियों की प्रसिद्ध उक्ति है,जो उनकी जीवन-दृष्टि का परिचायक है। मनुष्य और पशु में सबसे बड़ा अंतर उनके सीखने की क्षमता का है। कितना ही प्रयास क्यों न करें,पशुओं को हम एक सीमा से आगे नहीं सिखा सकते,पर मनुष्य के सीखने की क्षमता असीम है। शिक्षा का प्रमुख उद्देश्य ही शिक्षार्थी को सीखने में सहायता देना है,पर आज हमारी शिक्षा बच्चों को सीखने के लिए उतना प्रोत्साहित नहीं करती,जितना रटने के लिए। परिणामस्वरूप हमारे विद्यार्थी एक के बाद एक उपाधियाँ प्राप्त कर लेते हैं,उनकी जानकारी बढ़ती जाती है,पर विचारशील मनुष्य के रूप में जीवन जीने की उनकी क्षमता में बहुत ही कम विकास होता है। सर्वथा अशिक्षित मनुष्य भी कुछ-न-कुछ सीखते ही हैं। शिक्षा की प्रक्रिया उन्हें नई-नई जानकारी देने में मदद करती है,पर हमारी शिक्षा सीखने के लिए बच्चों को प्रोत्साहित नहीं करती,न उन्हें सीखने के लिए अवसर ही प्रदान करती है। कुछ उदाहरण लिए जा सकते हैं।

कलाएँ-अधिकतर विद्यालयों में माध्यमिक स्तर पर चित्रकला एक विषय के रूप में निर्धारित होती है,पर अन्य कलाओं के लिए वहाँ बहुत ही कम स्थान है। भारत में संगीत की बहुत प्राचीन और व्यापक परम्परा है। हमारी शिक्षा संस्थाओं में इसकी उपेक्षा हो रही है। टीवी ने संगीत को और बिगाड़ दिया है। बड़े-बड़े ईनामों के लालच में छोटे-छोटे बच्चों को संगीत प्रतियोगिता के नाम पर फूहड़ गीत गाने और उन पर नाचने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है,तथा उनके माता-पिता समेत आम जनता पूरी पीढ़ी को संस्कारहीन होते हुए देखकर तालियाँ बजाती हैं। महानगरों को छोड़कर कहीं भी संगीत के स्वतंत्र रूप से सीखने की व्यवस्था नहीं है। हमारे गाँवों में लोक-कलाओं की लंबी और समृद्ध परम्परा रही है। उनमें से किसी को भी विद्यालयों में स्थान नहीं है। पहले हर लड़की ढोलक बजाना सीख लेती थी। आज घरों से ढोलक गायब होती जा रही है,और इसी के साथ जीवन से लय भी।

भाषाएँ-भाषा मनुष्य के आन्तरिक जीवन और बाह्य जीवन को जोड़ती है,और जीवन को समझने के लिए माध्यम का काम करती है।मातृभाषा तो बच्चे अपने-आप सीख लेते हैं,यद्यपि उसके साहित्यिक पक्ष का ज्ञान उन्हें अधिकतर विद्यालय में ही होता है। मातृभाषा के बाद अंग्रे़ज़ी का स्थान है जो हमारी शिक्षा-व्यवस्था में सबसे प्रमुख भाषा बनती जा रही है। अंग्रेज़ी का ज्ञान शिक्षित होने का पर्याय बनता जा रहा है। भारतीय भाषाओं की उपेक्षा हो रही है और उन्हें हीन भाव से देखा जा रहा है। हम यह भूल जाते हैं कि, अंग्रेज़ी जाननेवाला व्यक्ति भी मानसिक रूप से अविकसित मनुष्य हो सकता है। जब ऐसे लोगों के हाथ में देश का नेतृत्व आ जाता है तो राष्ट्रीय जीवन के सभी क्षेत्रों में गिरावट अवश्यंभावी है। आज हमारा देश सभी क्षेत्रों में नकलचियों का देश बनकर रह गया है। पचास एक वर्ष पूर्व जे.कृष्णमूर्ति ने हताशा के स्वर में पूछा था, -`इस देश की सृजनशीलता को क्या हो गया है?` प्राचीनकाल में जब संसार के अधिकांश देशों का अस्तित्व भी नहीं था,न विकास का कोई प्रारूप विद्यमान था,हमारे पूर्वजों ने अपनी भाषा संस्कृत के माध्यम से मानव जीवन के गहनतम रहस्यों को खोज लिया था जो आज भी हमारे ही नहीं,सारी मनुष्य जाति के मार्गदर्शक बननेवाले हैं। जैसे कि श्री अरविन्द अपनी पुस्तक `भारतीय संस्कृति के आधार` में कहते हैं,-`प्राचीन भारत में जीवन के प्रत्येक पक्ष पर गंभीर सृजनात्मक कार्य हुआ था,जो आज भी हमारे लिए आदर्श है। एक विदेशी भाषा के अनुपातहीन महत्त्व ने हमारी अपनी भाषाओं की उपेक्षा की हुई है और परिणामस्वरूप भारतीय मेधा का विकास रुक गया है।`
अंग्रेज़ी पर अधिकतम ध्यान केन्द्रित होने के कारण हम संसार की अन्य भाषाओं की उपेक्षा कर रहे हैं। किसी भी देश की संस्कृति को उसकी भाषा के माध्यम से ही समझा जा सकता है। अंग्रेज़ी के अलावा अन्य विदेशी भाषाएँ न जानने के कारण हम अन्य देशों से गहरे संबंध नहीं बना पा रहे हैं। –अनिल विद्यालंकार
(आभार-वैश्विक हिंदी सम्मेलन)

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मुस्कुराहट का इंतज़ार

Mon Oct 2 , 2017
मेरे सामने की दीवार पर एक पुराना-सा चित्र टंगा हुआ है… जिसमें प्रकृति के नज़ारे हैं, और एक नदी बहती-सी प्रतीत होती है… वहीँ पास में कुछ घर भी दिखाई देते हैं, और वे भी मुस्कुरा रहे हैं… सब कुछ देखने पर मुस्कुराता ही नज़र आता है, पर कोई है […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।