नारी शक्ति सम्मान

1 0
Read Time4 Minute, 17 Second
prashant kourav
नारी—–
तुझमें ही प्रेम प्रतिज्ञा का रुप हमने देखा है,
तुझमें ही रणचंडी का स्वरुप हमने देखा है।
तुम प्रतिमा हाड़ा रानी के शीश दान की हो,
तुम पावन गाथा पन्ना धाय के स्वाभिमान की हो।
हम तुम्हें दुर्गा काली का अवतार समझते हैं,
रानी लक्ष्मीबाई की,पैनी तलवार समझते हैं।
तुम ही तो आजादी का चारण हो,
इन्द्रा के वचनों की स्पष्ट उदाहरण हो।
ब्राम्हणी रुद्राणी तुम सारे देवों की माता हो,
लाड़ले तिरंगे की तुम ही भारत माता हो॥
माँ—-
तुम्हीं देवकी बन किशन जनाए थे,
पार्वती बनकर तुमने ही गणेश बनाए थे।
लव-कुश को भी तुमने सत्य आचरण सिखाए थे,
केवल राम कथा के ही उनको अध्याय पढ़ाए थे।
दुष्टों को सबक सिखाने तू काली माई बनी,
देश को आजाद कराया, तुम ही जीजाबाई बनी।
तुमसे ही पैदा इस माटी पर चंदन होता है,
ऐसी मांओं का भारत में वंदन-अभिनंदन होता है।
तुम शहादत के सरदार हेमराज़ की माता हो,
लाड़ले तिरंगे की तुम्हीं भारत माता हो॥
नारी शक्तियां—
तुम्हीं कावेरी यमुना की पावन सूरत हो,
तुम्ही राधा-रुक्मिणी की प्यारी सूरत हो।
तुम्हीं पवित्र सीता मैया हो,
कष्टों को हरने वाली तुम ही गंगा मैया हो।
सिंधु की गहराई तुम,सतलज की धारा हो,
तुम ही तो जय माता दी का नारा हो।
देव मंत्रों की तुम ही पावन वेदी हो,
जम्मू काश्मीर की तुम ही वैष्णो देवी हो।
और ऊँचे पहाड़ों पर तुम मैहर वाली माता हो,
लाड़ले तिरंगे की तुम्हीं भारत माता हो॥
बहिन—–
तुम्हीं हरदौल लला की कुंजा हो,
तुम्हीं पावन पूजन की संध्या हो।
तुम बहिन द्रोपदी की सूरत में दिखती हो,
आई जैसे सावन की हरियाली लगती हो।
ज्यों-ज्यों धीरे से त्यौहार चला आए राखी का,
द्रश्य मनोहर दिखता हो भादो की झांकी का।
ले हाथ में राखी बहिन छमक-छमककर आती है,
हो कितने ही ग़म पर त्यौहार खूब मनाती है।
उसकी सूरत में फिर कोई बंधन याद आता हो,
बहिन,बेटी हो या नारी सबकी सूरत में तुम भारत माता हो॥
                                                                #प्रशांत कौरव ‘मजबूर’
परिचय: प्रशांत कौरव ‘मजबूर’ की जन्मतिथि-१७ अक्टूबर १९९२ और जन्म स्थान-आडेगाँव(खुर्द,गाडरवाड़ा जिला नरसिंहपुर, मध्यप्रदेश) है। मप्र के इसी शहर-गाडरवाड़ा में आपका निवास है। उच्चतर शिक्षा के बाद आपका कार्यक्षेत्र-कृषि का निजी व्यवसाय है। आप सामाजिक क्षेत्र में कौरव महासभा नरसिंहपुर में सक्रिय हैं। लेखन विधा-वीर रस अपनाई हुई है तो करीब २५० अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में मंच से भी कविताएं सुना चुके हैं। सम्मान के रुप में नवोदित रचनाकार सम्मान,भीष्म साहित्य सम्मान,वाग्दत्ता साहित्य सम्मान, सरस्वती साहित्य परिषद युवा रचनाकार सम्मान काव्य कलश समान २०१७ भी आपको दिया गया है। आपके लेखन का उद्देश्य यही है कि,अपनी कविताओं के माध्यम से सब लोगों को हर बार एक आजाद हिन्दुस्तान का संदेश और आतंकवादियों,भ्रष्टाचारियों तथा देशद्रोहियों से हमेशा लड़ने का प्रोत्साहन देते रहें।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सताते रहे...

Mon Aug 28 , 2017
  दास्ताँ  दर्दे   दिल  की सुनाते  रहे। वो  हमें   देखकर   मुस्कराते  रहे। टूटकर के बिखरने से क्या फायदा। ये  गलत है  उन्हें हम सिखाते  रहे। जब कभी देखा गम़गीन मैंने उन्हें। आँख  में अश्क अपने  छुपाते रहे। हम शिकायत करें भी तो किससे करें। जब  खुदा खुद […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।