आँगन का टेढ़ापन कब तक दुहराओगे

Read Time12Seconds

jagdish pankaj

आँगन का टेढ़ापन

कब तक दुहराओगे,

नाचो जैसे भी हो

अपनी ही थिरकन सेl

तालों में बन्द करो

कितनी ही कमजोरी,

आखिर में बाहर तो

आनी ही आनी हैl

कितना ही मना करो

स्वाभाविक भूलों को,

स्वागत ही होता है

मन से जब मानी हैl

भारी तो बातें हैं

बातों की तर्ज नहीं,

बोलो वह जो निकले

अपनी ही धड़कन सेl

थोथी स्वीकृतियों से

कब तक भरमाओगे,

कब तक बहलाओगे

झूठे उद्गारों सेl

टूटी लय-ताल लिए

जीवन के गायन को,

कब तक गा पाओगे

हकले हुंकारों सेl

केवल इतिहास नहीं

अपनी पहचान रहेl

आगत के स्वागत में

गाएं अंतर्मन सेl

पहले किसने कैसा

नाचा इस आँगन में,

छोड़ो यह, तुम अपनी

शैली में ठुमक उठोl

कब तक बहलाओगे

झूठी पग छम-छम से,

नख-शिख संचालन का

संगम ले चमक उठोl

माना गन्धर्व नहीं

न तुम किन्नर-लोकी,

जो भी हो किलक उठो

स्वाभाविक नर्तन सेl

# जगदीश पंकज

परिचय: जगदीश प्रसाद जैन्ड का जन्म १० दिसम्बर १९५२ को उत्तर प्रदेश के पिलखुवा(जिला-गाज़ियाबाद) में हुआ है,जबकि निवास सेक्टर २,राजेन्द्र नगर,साहिबाबाद (गाज़ियाबाद) में है l बीएससी तक शिक्षित श्री जैन्ड की प्रकाशित कृतियाँ-‘सुनो मुझे भी(नवगीत संग्रह),’निषिद्धों की गली का नागरिक’ आदि हैl नवगीत के समवेत संकलन में ‘नवगीत का लोकधर्मी सौंदर्यबोध’,’गीत सिंदूरी-गन्ध कपूरी’ सहित ‘सहयात्री समय के’ आदि भी आपके नाम है, तो साझा संग्रह में ‘सारांश समय का’ है l आपकी रचनाएं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं तथा वेब पत्रिकाओं में गीत,नवगीत,समीक्षा व कविता में रूप में प्रकाशित हैं l आकाशवाणी दिल्ली से काव्य-पाठ का प्रसारण भी हुआ है l बतौर सम्मान आपको मुरादाबाद सहित अन्य स्थानों पर ‘देवराज वर्मा उत्कृष्ट साहित्य सृजन सम्मान- २०१५’ और ‘नटवर गीत साधना सम्मान-२०१६’ से भी सम्मानित किया गया है l सम्प्रति से आप बैंक से वरिष्ठ प्रबन्धक के पद से सेवानिवृत्त होकर स्वतंत्र लेखन करते हैं l

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बहाने ढूंढते हैं...

Sat Aug 26 , 2017
बहुत रोका मगर ये कब रुके हैं, ये आँसू तो मेरे तुम पर गए हैं। जो तुमने मेरी पलकों में रखॆ थे, वो सपने मुझको शूलों से गड़े हैं। न सीता है, न अब है राम कोई, चरित्र ऎसे कथाओं में मिले हैं। जो आने के बहाने ढूंढते थे, वो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।