कर्नाटक में  चुनाव निकट-भाषाई समस्या हुई विकट !

0 0
Read Time4 Minute, 1 Second

cropped-cropped-finaltry002-1.png

निर्मलकुमार पाटोदी…..
वैश्विक नगरी को हिन्दी अखरी….आज के बिजनेस स्टैंडर्ड में विश्लेषणात्मक रिपोर्ट पढ़कर विचार आया कि,हिन्दी-कन्नड़ को लेकर जो दु:खद भाषाई विवाद उभरा है,उसका नेतृत्व करने वालों की भाषाई समझ भटकी हुई थी। पूरी रिपोर्ट का विश्लेषण भी ठीक दिशा में नहीं है। रिपोर्ट के साथ चित्र में जो साइन बोर्ड दिख रहे हैं। उनमें हिन्दी का एक भी नहीं है। लगभग सभी में या तो कन्नड़-अंग्रेज़ी है या सिर्फ अंग्रेज़ी में है। विचारणीय मुद्दा यह है कि,हिन्दी से हमारी अपनी प्रिय भाषा कन्नड़ का न कभी विरोध रहा है और न होगा। दोनों भाषाएं भारत राष्ट्र की वसुंधरा से उत्पन्न हुई हैं। परस्पर मेलजोल से दोनों सदियों से विकसित हुई है। लिपि भले ही भिन्न-भिन्न हैं,कि सांस्कृतिक दृष्टि से दोनों भाषाएं एक ही धरती की संतान हैं। हिन्दू धर्म के राम-कृष्ण,शंकर जी हों या जैन धर्म के तीर्थंकर हों,सभी कर्नाटक सहित पूरे देश में समान रूप से पूज्यनीय है। गोम्मटेश्वर बाहुबली के महा महोत्सव में पूरे देश के अनुयायी हासन में हज़ार साल से आते रहें हैं। अगली इसी फरवरी में पूरे देश से हज़ारों श्रद्धालु आएंगे। हज़ारों वर्ष पहले प्राचीन कन्नड़ में रचित जैन साहित्य जो ताड़ पत्र पर अंकित था,वह क्या विदेशी भाषा या धर्म का हिस्सा था।

समझने की बात इतनी-सी है कि,हमारी भाषाओं को अपनाने और उनका सम्मान करने से हमारी निकटता,अपनापन बढ़ता ही है। हिन्दी तो पूरे देश को जोड़ने की भूमिका सदियों से निभा रही है। यह भूमिका पहले सँस्कृत ने निभाई थी।यह गले उतरने की बात है कि,कन्नड़ भाषा का का हिन्दी के कारण या तमिल-तेलुगु के कारण नुकसान हो रहा है। कन्नड़ और हिन्दी के बीच दूरी पैदा करने वालों की सोच का आधार ही भटका हुआ है। उनकी विदेशी ग़ुलाम मानसिकता की भाषा अंग्रेज़ी से कन्नड़,हिन्दी सहित देश की सभी भाषाओं को जो अपरिमित क्षति हुई है और हो रही है, इस तथ्य पर उनका ध्यान क्यों नहीं जाता। अंग्रेज़ी भाषा के कारण हमारी नई पीढ़ी के बालक हमारी धरती की जड़ों से कट चुके हैं। उनका खान-पान,रहन-सहन,पहनावा,बोलचाल,सोच-विचार सभी कुछ अपना नहीं रहा हैं। वे हमारे प्राचीन ज्ञान-विज्ञान से कट चुके हैं। हमारे धर्म और धर्म के साहित्य से दूर हो चुके हैं। हमारे इतिहास  से अनजान हैं। उनका जीवन सिर्फ भौतिक चकाचौंध में रमा हुआ है जबकि, हमारे भारत की संस्कृति का आधार धर्म पर आधारित रहा है। धर्म और संस्कृति के बिना जीवन अशांत और दु:खी रहता है। हमारा धर्म,भाषा और संस्कृति न केवल शांति से असली सुखमय जीवन जीना सिखाते हैं,अपितु शांति से मरना भी सिखाते हैं।

     (साभार-वैश्विक हिन्दी सम्मेलन,मुंबई)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कुछ मुक्तक

Tue Aug 22 , 2017
अब आँख बन्द करके,गद्दारों को हमने ही मारा है। हर एक युद्ध में पाक ने,अपनी हारों को स्वीकारा है॥ शायद पाक फिर से,भूल गया है अपनी औकात को। यह याद दिलाने को ही,वीरों ने आंतकियों को मारा है॥ जिस आंतक के बल से,पाक ने हमें ललकारा है। उसकी औलादों को […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।