परमात्म मिलन

Read Time0Seconds

मैं और मेरे मे भेद है भारी
आत्मा हूँ मैं और शरीर बाहरी
मैं हूं एक ज्योति बिंदु आत्मा
उसी रूप मे मिलते परमात्मा
शरीर मेरा रथी कहलाता
आत्म ऊर्जा से जीवन नाता
देहाभिमान मे रहना छोड़ो
आत्म बोध का मधुर रस घोलो
विदेहीपन मे जो खो गया
वही परमात्मा का हो गया
मैं का अर्थ अभिमान भी है
यह एक बड़ा विकार भी है
लौकिकता से परे जो हो गया
वही रूहानियत मे खो गया
परमात्म मिलन का मार्ग है यह
पतित से पावन का आधार है यह।
#श्रीगोपाल नारसन

0 0

matruadmin

Next Post

प्रेमपाल शर्मा की चिट्ठी हमारे नाम.। झिलमिल में गोवा की पूर्व राज्यपाल हिंदी-सेवी स्वर्गीय मा. मृदुला सिन्हा जी को श्रद्धांजलि

Sat Nov 21 , 2020
अत्र कुशलम तत्रास्तु! सबसे पहले बात भाषा की। आवासीय सोसायटी में रहने वाली डॉ मीनाक्षी महाराष्ट्र की है । पिछले 2 वर्ष से बैंगलोर में हैं। बेटी 12वीं में निजी उर्फ पब्लिक स्कूल में ।विषय कॉमर्स । साथ में अंग्रेजी और हिंदी। हिंदी सुनकर मुझे कुछ आश्चर्य मिश्रित झटका लगा। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।