नयापुरा माकनी के बच्चे सरकारी स्कूल डॉट इन दिल्ली द्वारा आयोजित मेरे शिक्षक -मेरा गौरव नेशनल प्रतियोगिता में हुए सम्मानित

0 0
Read Time3 Minute, 4 Second

नागदा (धार) |

सरकारी स्कूल डॉट इन द्वारा आयोजित ” मेरा शिक्षक मेरा गौरव ” प्रतियोगिता में शासकीय नवीन प्राथमिक विद्यालय नयापुरा माकनी के छात्र फैजान शाह, सूरज डाबी,छात्रा माही वर्मा द्वारा सहभागिता करने पर संस्था प्रमुख श्री अभिषेक रंजन ने प्रशंसा-पत्र देकर सम्मानित किया । इस प्रतियोगिता में बिहार, मध्य प्रदेश, दिल्ली, उत्तराखंड सहित 7 राज्यों के बच्चों ने भाग लिया था । प्रतियोगिता शिक्षक दिवस पर आयोजित की गई थी, जिसमें बच्चों से उनके जीवन में शिक्षक की भूमिका को बताते हुए अधिकतम 3 मिनट का विडियो साझा करने को कहा गया था. प्रतियोगिता का उद्देश्य था कि बच्चों में शिक्षकों के योगदान के प्रति कृतज्ञता का भाव जगे, साथ ही शिक्षकों की मेहनत के बारे में समाज को पता चले । सरकारी स्कूल डॉट इन सरकारी स्कूल के बच्चों, शिक्षकों, पूर्व विद्यार्थियों एवं सरकारी स्कूल के लिए कार्य कर रहे लोगों से जुड़ी प्रेरक कहानियों को समाज के बीच में ले जाने के उद्देश्य लिए कार्य कर रही है. सरकारी स्कूल डॉट इन के संस्थापक अभिषेक रंजन ने बच्चों और उनके परिजनों से बात की, इस प्रतियोगिता में भाग लेने पर बधाई दी. विडियो कॉल के माध्यम से बात करके खूब पढ़ने हेतु उत्साह भी बढ़ाया और इसी तरह सरकारी स्कूल का मान बढ़ाते रहने की बात कही. अभिषेक रंजन ने कहा कि सरकारी विद्यालयों के बच्चों में प्रतिभा की कोई कमी नही है. जरुरत है उन्हें उचित दिशा देने की, उन्हें मंच मुहैया कराने की. सरकारी स्कूल डॉट इन छुपी हुई प्रतिभाओं को निखारने और एक दूसरे बच्चों से सीखने का भी अवसर देगा.मध्यप्रदेश के नवाचारी प्रेरक शिक्षक गोपाल कौशल जी के नेतृत्व में विद्यालय निरंतर प्रगति की राह पर है, जो बाकी स्कूलों के लिए प्रेरक है।
इसके पूर्व भी लॉकडाउन के दौरान नयापुरा माकनी के बच्चों ने नवोदय क्रांति परिवार, भाभा विज्ञान क्लब गोंडा उ.प्र. द्वारा भी राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित हो चुके ।

          ✍️ गोपाल कौशल

matruadmin

Next Post

अंकित होंगे मेरे लहू से बर्बादी के अफसाने

Wed Sep 16 , 2020
अंकित होंगे मेरे लहू से बर्बादी के अफसाने किसने सोचा था किसने जाना था यार दौस्तो सुना था मेहबूब बेवफा हो ये है कोई कोई हाय मेरे महबूब की आंखों में फरेब होगा हाय हाय किसने सोचा था किसने जाना था यार दोस्तों पतझड़ आयेगी आ कर चली जायेगी हाये […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।