निश्छल प्रेम

Read Time5Seconds

आख़िर
तुम मुझे क्या दे पाओगे
ज्यादा से ज्यादा
अपराध बोध से भरी हुई अस्वीकृति
या
आत्मग्लानि से तपता हुआ निष्ठुर विछोह

हालाँकि
इस यात्रा के पड़ावों पर
कई बार तुमने बताया था
इस आत्म-मुग्ध प्रेम का कोई भविष्य नहीं
क्योंकि
समाज में इसका कोई परिदृश्य नहीं

मैं
मानती रही कि
समय के साथ
और
प्रेम की प्रगाढ़ता
के बाद
तुम्हारा विचार बदल जाएगा
समाज का बना हुआ ताना-बाना
सब जल जाएगा

पर मैं गलत थी
समय के साथ
तुम्हारा प्यार
और भी काल-कवलित हो गया
तुम्हारा हृदय तक
मुझसे विचलित हो गया

तुम तो पुरुष थे
ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति
कभी कृष्ण, कभी अर्जुन की नियति
समाज की सब परिपाटी के तुम स्वामी
संस्कार,संस्कृति सब तुम्हारे अनुगामी

फिर भी
प्रेम पथ पर
तुम्हारे कदम न टिक पाए
विरक्ति-विभोह के
एक आँसू भी न दिख पाए

मैं
नारी थी
दिन-दुनिया,घर-वार
चहुँओर से
हारी थी

मुझको ज्ञात था
अंत में
त्याग
मुझे ही करना होगा
सीता की भाँति
अग्नि में
जलना होगा

पर
मैं
फिर भी तैयार हूँ
तमाम सवालों के लिए
मैं खुद से पहले
तुम्हारा ही बचाव करूँगी
और
जरूरत पड़ी तो
खुद का
अलाव भी करूँगी

मैं बदल दूँगी
सभी नियम और निर्देश
ज़माने के
और
हावी हो जाऊँगी
सामजिक समीकरणों पर
और इंगित कर दूँगी
अपना
”निश्छल प्रेम”
जो मैंने
जीकर भी किया
और मरने के बाद भी
करती जाऊँगी

सलिल सरोज
परिचय

नई दिल्ली
शिक्षा: आरंभिक शिक्षा सैनिक स्कूल, तिलैया, कोडरमा,झारखंड से। जी.डी. कॉलेज,बेगूसराय, बिहार (इग्नू)से अंग्रेजी में बी.ए(2007),जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय , नई दिल्ली से रूसी भाषा में बी.ए(2011), जीजस एन्ड मेरीकॉलेज,चाणक्यपुरी(इग्नू)से समाजशास्त्र में एम.ए(2015)।
प्रयास: Remember Complete Dictionary का सह-अनुवादन,Splendid World Infermatica Study का सह-सम्पादन, स्थानीय पत्रिका”कोशिश” का संपादन एवं प्रकाशन, “मित्र-मधुर”पत्रिका में कविताओं का चुनाव।सम्प्रति: सामाजिक मुद्दों पर स्वतंत्र विचार एवं ज्वलन्त विषयों पर पैनी नज़र। सोशल मीडिया पर साहित्यिक धरोहर को जीवित रखने की अनवरत कोशिश।

1 0

matruadmin

Next Post

कान्हा

Wed Aug 12 , 2020
कान्हा धरती पर जब आया घनघोर उमड़ते बादल लाया यमुना पैर छूने को बढ़ी थी कैसी सुख की वह घड़ी थी कारावास के बंधन सब टूटे प्रहरियों की भी नींद न टूटे रातोंरात गोकुल में पधारे नन्द के घर किलकारी मारे लल्ला जन्मा जन पुकारे खुशी से उछल गए सारे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।