तेजाब

Read Time2Seconds

sandhya
रेखा मोहल्ले की सबसे सुंदर लड़की थी। हर कोई उसके लिए जान देने को तैयार था। रेखा को पढ़ने का शौक था। वह मनोविज्ञान की प्राध्यापक बनना चाहती थी। उसका मानना था कि,समाज में बहुत से लोग मानसिक बीमारी का शिकार हैं,लेकिन उसे नहीं मालूम था कि,लोगों की मानसिकता को बदलना इतना आसान नहीं,जितना वो समझती है।
खूबसूरत शरीर के साथ खूबसूरत दिल और तेज दिमाग की मालकिन थी रेखा। एक दिन रोज की तरह वह घर से महाविद्यालय के लिए निकली, तो रास्ते में लड़कों का झुंड खड़ा हो उसे ताक रहा था। लड़कों की गंदी नजर उसके बदन को घूर रही थी। खुद को दुपट्टे से ढंकती हुई वो जैसे ही निकलने को आगे बढ़ी ,एक लड़के ने उस का दुपट्टा छीन लिया। रेखा ने विरोध करने के लिए दूसरे लड़के(रवि) को खींचकर थप्पड़ मार दिया और बोली कि,जितना समय लड़कियों के पीछे बर्बाद करते हो,कुछ पढ़ने में लगाया होता तो इंसान बन जाते।
उसकी इस बात से रवि की मर्दानगी को ठेस लगीl वो बोला-तुम क्या कहना चाहती हो???
क्या मैं इंसान नहीं? तुम्हें जानवर नजर आता हूँ क्या मैं?
रेखा ने गुस्से में घूरकर कहा,-हाँ,तुम सबके-सब जानवर ही बन गए हो। मुझे पढ़ाई पूरी कर लेने दो,फिर तुम्हारे दिमाग का ईलाज करुँगी मैं।
ये कहकर  रेखा अपना दुपट्टा ले चली गई।
रास्ते में ख़ड़े रवि से उसके साथियों ने कहा कि,इसका कुछ करना होगा,वरना बेइज्जती कर देगी।
रवि बाजार गया और तेजाब की बोतल खरीदकर रेखा के आने का इंतजार करने लगा। शाम को ४ बजे रोज की तरह हँसती-चहकती रेखा,रवि के षडयंत्र से अनभिज्ञ चली आ रही थी। सामने से एक तेज दोपहिया गाड़ी आती दिखी,जब तक रेखा को कुछ समझ में आता,वो दर्द से चीख रही थीl रवि तेजी से रेखा पर सारा तेजाब फेंककर फरार हो चुका था।
रेखा दर्द से तड़पती हुई लोगों से मदद के लिए गुहार लगा रही थी।
तेजाब ने न केवल रेखा के जिस्म को जलाया था,उसके आत्मविश्वास को भी जला दिया था। औरत होने की सजा उसके तन और मन दोनों को चुकानी पड़ी।
क्यों एक मर्द की मर्दानगी औरत को दबाकर रखने से ही साबित होती है ? आज भी कितने घर हैं,जहाँ सिर्फ औरत को ही उसके नारी होने के लिए समाज के तेजाब को झेलना पड़ता हैं..l

                         #संध्या चतुर्वेदी

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चांदनी-सी लग रही हो...

Fri Oct 6 , 2017
कभी बृज में बजी थी रागिनी-सी लग रही हो तुम, शरद के चन्द्रमा की चांदनी-सी लग रही हो तुम। दिल के तालाब में बनकर कमल उतर जाओ, आज बस एक मेरे प्रेम में संवर जाओ। हो अगर फूल तो,बदहाल मन के आंगन में, अपनी गंधों के रंग आ के यहाँ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।