नारी लेखना

0 0
Read Time5 Minute, 35 Second
seema garg
दो पल की खुशियाँ जीने को दर्द के गुजरे सैलाब कई ,
गम के निशां लिए दिल पर अनमने गुजरे अजाब कई |
लाख छुपाये गम नजरों से आँसू पिघले, फिर गये मचल ,
किस्मत की भँवर में उलझे, सजे ख्बाब कई, फिर गये बदल |
खुदगर्ज निगाहों से दबे कुचले अरमां तडपे ,
कुछ ख्वाब सिंदूरी गुँथे पलकों में, कुछ वेदना भर दहके |
व्यथित मन में अंगार लिये जलते सपनों की राख लिये,
ये नारी दिल विधाता की छलना का गरल पिये |
क्यूँ नारी की लेखा मेें विधि ने पीडा की डाली हाला ,
सीता का क्या था अपराध भला निष्ठुर वनवास मिला |
अहिल्या की किस्मत की देखो, निर्मम लेखा ,
नारी से शिला बनी सहस्रों बर्ष की राम प्रतीक्षा |
द्रौपदी निर्वस्त्र केशों से घसीट लाई गई ,
भरे दरबार अपमानित हो आँसुओं से मुख धोई |
क्यूँ नारी की किस्मत में होते हैं विष के प्याले ,
देती है परीक्षा फिर भी भाग के लेख न बदले |
मेरे मन का निश्छल कोना बस यही है मेरा होना ,
हँसकर मुझे है जहर पीना अभी और मुझे है जीना… |
नाम ~ सीमा गर्ग’ मंजरी’
वर्तमान पता ~ मेरठ(उत्तर प्रदेश )
राज्य ~ उत्तर प्रदेश 
शहर ~ मेरठ 
कार्यक्षेत्र ~ गृहणी हूँ 
विधा ~ कविता, गीत, लघुकथा, कहानी, लेख 
शिक्षा ~ हिन्दी आनर्स ग्रैजुएट 
लेखन का उद्देश्य ~ अपनी मातृभाषा हिन्दी में लेखन कार्य के द्वारा अपनी रचनाओं से सकारात्मक संदेश प्रसारित करना | अपनी मातृभाषा हिन्दी में रचकर मातृभाषा का गौरव बढाना |पाठक वर्ग को जागरूक करना | आदि.. 
परिचय ~ मैं उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में रहती हूँ | लिखने 
पढने का शौक रखती हूँ |
अभी कुछ समय से अपने परिवार खासकर बच्चों के द्वारा प्रोत्साहित करने पर मैने लंबे अंतराल के बाद लिखना शुरू किया है | भले ही कोई डिग्री नहीं है मेरे पास, लेकिन जो भी लिखती हूँ दिल से लिखती हूँ | 
 
मैं” क्षितिज ~ व्हेयर ड्रीम्स मीट रियलिटी” साहित्यक ग्रुप की सदस्या हूँ | यहाँ मैने अनेक सम्मान को प्राप्त करते हुये अनेक प्रतियोगियों के बीच “नेशनल लेवल पोयट्री “की प्रतियोगिता में चुने गए सात प्रतिभागियों के बीच “चौथा स्थान “प्राप्त किया है |
 
साहित्यक मंच “आगमन कोलकाता “की आजीवन सदस्यता को ग्रहण किया है | यहाँ मैने विभिन्न प्रतिभाशाली कवियों के बीच “प्राइड आफ सेप्टेम्बर” सम्मान को प्राप्त किया है | मेरी कविता को “प्रथम स्थान” मिला | एवं अन्य अनेक सम्मान भी प्राप्त हुये हैं |
 
“काव्य रंगोली हिन्दी पत्रिका” में “साहित्य भूषण सम्मान” का सम्मान मिला है | 
 
“लोकजंग पेपर” में लघुकथायें,कविता भी प्रकाशित हुई हैं | 
 
अंकुर साहित्यिक पत्रिका में भी रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं | 
 
युवा प्रवर्तक बेव पोर्टल पर भी रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं | 
 
अग्रसत्ता पत्रिका में मेरी रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |
विजय दर्पण टाइम्स मेरठ समाचार पत्र में मेरी रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं | 
 
श्री श्री रविशंकर जी के “आर्ट आँफ लिंविंग” की सदस्या हूँ | यहाँ से” टी, टी, पी कोर्स “को करके बच्चों को संस्कार और संस्कृति की शिक्षा देने के लिए प्रयासरत हूँ |
 
अपने समीप धार्मिक संस्था से जुडी हूँ | जहाँ अनेक” धार्मिक और सामाजिक “कार्यों को मिलजुलकर सम्पन्न किया जाता है | 
 
मेरा एकल काव्य संग्रह “भाव मंजरी” नाम से प्रकाशित हो रहा है | 
 
एक सांझा काव्य संग्रह ~पहाडी गूँज के नाम से वर्तमान अंकुर पत्रिका के सहयोग से जनवरी अंतिम में प्रकाशित होगा |
 
काव्य सागर यू टयूब पर कविता एवं कहानियों का प्रसारण होता रहता है |
 
काव्य मंजरी समूह में अनेक प्रतिभागियों के बीच मेरी कविता को सर्वश्रेष्ठ के लिए सम्मान मिला है | 
 
मेरा सांझा काव्य संकलन ~गाता रहे मेरा दिल प्रखर गूँज प्रकाशन के माध्यम से जनवरी में आने वाला है |
 
मेरा मुक्त छंद सांझा संग्रह प्रखर गूँज के माध्यम  फरवरी में प्रकाशित हो रहा है |

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नारीत्वता

Sat Mar 9 , 2019
चंद्र की चाँदनी हूँ तारों को समेटे आँचल में फैलाती शीतलता दिवाकर की हूँ उषा किरण जो नभ और धरा को  देती नवीनता मेरा हैं हर दिवस फिर एक दिवस क्यों     करू हर्ष बन सलिला मैं देती जीवन में       तरलता दौड़ रहा हैं ,मेरा   […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।