स्त्री बनाम पुरुष

2
0 0
Read Time3 Minute, 39 Second

gunjan

महिला दिवस आते ही पुरुषों का घड़ियाली आंसू बहाना शुरू हो जाता है। कविता,लेख,कहानी आदि-आदि द्वारा स्त्रियों के लिए सम्मान की भावना अचानक तूफान बन कहाँ से टूट पड़ती है कि, नारी तुम देवी हो,तुम सृष्टि की रचयिता हो, तुम्हारे बगैर कुछ भी सम्भव नहीं है वगैरह-वगैरह…। समझ नहीं आता कि, जो पुरुष बिना अपनी मेहरबानी के स्त्री को दो कदम भी आगे बढ़ते नहीं देख सकता,वह आज इतना विनम्र व् शुभचिंतक कैसे हो गया? गिरगिटों ने भी रंग बदलने वाला हुनर शायद इन्हीं से पाया हो? खैर, हम स्त्रियां भी कुछ कम नहीं हैं,नारी सशक्तिकरण के नाम पर शुरु जो हो जाती हैं। कभी कहेंगी कि,प्रेम मत करो,किसी पुरूष की दया की मोहताज मत बनो,हम पुरुषों से कम नहीं हैं..शक्ति स्वरूपा हैं इत्यादि-इत्यादि..। यह सत्य है कि, हमें स्त्री स्वतंत्रता के लिए सकारात्मक विचार लाने होंगे व उसके लिए कार्य भी करना होगा,ताकि वह शिक्षित व स्वावलंबी हो सके,परंतु इस प्रकार की सोंच क्या हममें पुरुषों के प्रति प्रतिस्पर्धा से अधिक घृणा नहीं पैदा कर रही है ? क्या हम अनजाने में ही अपनी नई पीढ़ियों के हृदय में पुरुषों के प्रति नफरत का बीज नहीं बो रहे हैं? आज बहुत-सी लड़कियां पुरुषों ही अपना जन्मजात शत्रु मानने लगी हैं,हम अपनी बच्चियों को सक्षम तो बना रहे हैं,साथ ही क्रूर भी। एक पुरूष भाई,पिता,बेटा और पति भी होता है। जब स्त्री का पुरुष के प्रति व पुरुष का स्त्री का पुरुष के प्रति आकर्षण ही खत्म हो जाएगा,तब तो सृष्टि स्वयं ही थम जाएगी,हर एक विवाहित जोड़ा कोर्ट की दहलीज पर खड़ा मिलेगा। लगभग 60-70 प्रतिशत अविवाहित लड़कियां तमाम तरह के स्त्री रोगों से ग्रसित हो रही हैं, और चिकित्सक सिर्फ एक ही वजह बताते हैं-तनाव और पुरूष हार्मोन्स की अधिकता,अर्थात-दृढ़ता,क्रोध, अधिक महत्वाकांक्षा,उग्रता इत्यादि इन कठोर गुणों का स्त्रियों में अधिक हो जाना,जिसे पुरुष गुणों की पहचान माना जाता है। मुक्तता की चाह में हम भूल ही जाते हैं कि, क्या हम इस ईश्वर प्रदत्त स्त्री देह से इस जीवन में मुक्त हो पाएंगे? इस तरह से हम अपनी ही संतानों को स्वावलम्बी तो बना देते हैं, पर बहुत कुछ छीन भी लेते हैं जो उन्हें स्त्री होने की पहचान दिलाता है। मेरा मानना है कि, हम कोई भी चीज़ लड़कर नहीं जीत सकते हैं, उसके लिए प्रेम ही सशक्त हथियार है-चाहे वह किसी प्रकार की भी स्वतंत्रता ही क्यों न हो,जरूरत है अपने अधिकार के प्रति सजग रहने की, जिसकी शुरुआत हमें अपने घर से ही करनी चाहिए।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

2 thoughts on “स्त्री बनाम पुरुष

  1. समाज मे बढ़ते असन्तुल के कारण को बड़ी सूक्ष्मता और प्रभावशाली तरिके से उभारा आपने,,,संतुष्टि मिली,,,परन्तु लेख मे वर्णित कारणों को आत्मसात कर जागरूकता लाना अतिआवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

शब-ए-इंतज़ार

Wed Mar 22 , 2017
शब-ए-इंतज़ार में सितारे टिमटिमाते रहे, चाँद बे-ख़ौफ़ खिलखिलाता रहा। रो पड़ी शबनम आकर जमीं के आगोश में, सहर भी न थी अपने होश में। जो पूछा क्या हुआ जबाब एक आया, तपता है सूरज पिघलते हैं हम। हर बार इल्जाम क्यों हम पर ही आया, ज़माने ने शबनम के पैरों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।