दर्द न समझा मेरा कोई 

Read Time1Second
sanjay
दर्द कागज़ पर, मेरा बिकता रहा /
मैं बैचैन था, रात भर लिखता रहा../
छू रहे थे सब, बुलंदियाँ आसमान की /
मैं सितारों के बीच, चाँद की तरह छिपता रहा //
अकड होती तो, कब का टूट गया होता /
मैं था नाज़ुक डाली, जो सबके आगे झुकता रहा /
बदले यहाँ लोगों ने, रंग अपने-अपने ढंग से /
रंग मेरा भी निखरा पर, मैं मेहँदी की तरह पीसता रहा //
जिनको जल्दी थी, वो बढ़ चले मंज़िल की ओर /
मैं समन्दर से राज, गहराई से सीखता रहा /
ज़िन्दगी कभी भी ले सकती है करवट /
तू गुमान न कर, बुलंदियाँ छू हज़ार //

मगर उसके लिए कोई, ‘गुनाह’ न कर /
इसलिए कुछ बेतुके झगड़े /
कुछ इस तरह खत्म कर दिए मैंने /
जहाँ गलती नही भी थी मेरी /
फिर भी झुक गया मै औरो के लिए //

दर्द कागज़ पर, मेरा बिकता रहा /
मैं बैचैन था, रात भर लिखता रहा..//

#संजय जैन

परिचय : संजय जैन वर्तमान में मुम्बई में कार्यरत हैं पर रहने वाले बीना (मध्यप्रदेश) के ही हैं। करीब 24 वर्ष से बम्बई में पब्लिक लिमिटेड कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत श्री जैन शौक से लेखन में सक्रिय हैं और इनकी रचनाएं बहुत सारे अखबारों-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहती हैं।ये अपनी लेखनी का जौहर कई मंचों  पर भी दिखा चुके हैं। इसी प्रतिभा से  कई सामाजिक संस्थाओं द्वारा इन्हें  सम्मानित किया जा चुका है। मुम्बई के नवभारत टाईम्स में ब्लॉग भी लिखते हैं। मास्टर ऑफ़ कॉमर्स की  शैक्षणिक योग्यता रखने वाले संजय जैन कॊ लेख,कविताएं और गीत आदि लिखने का बहुत शौक है,जबकि लिखने-पढ़ने के ज़रिए सामाजिक गतिविधियों में भी हमेशा सक्रिय रहते हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सबला

Wed Nov 21 , 2018
युगों युगों से सहते आये नारी की व्यथा करुणा है, अबला नही अब सबला है ये दुर्गा लक्ष्मी वरुणा है। द्रौपदी आज बीच सभा चीत्कार रही, कितनी सारी निर्भया खून के आसूं बहा रही। चीर हरण अब रोज होता कृष्ण नही अब आते हैं, छोटे छीटे मासूम भी हवस की […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।