सबला

Read Time0Seconds

avinash tiwari

युगों युगों से सहते आये नारी की व्यथा करुणा है,
अबला नही अब सबला है ये दुर्गा लक्ष्मी वरुणा है।
द्रौपदी आज बीच सभा चीत्कार रही,
कितनी सारी निर्भया खून
के आसूं बहा रही।
चीर हरण अब रोज होता कृष्ण नही अब आते हैं,
छोटे छीटे मासूम भी हवस की भेंट चढ़ जाते हैं।
अर्जुन बना बृहनलला देखो,भीष्म शैया पर सोते हैं,
विदुर चले अब शकुनि चाल द्रोण
गुरुत्व को खोते हैं।
सीता की अग्नि परीक्षा बीच चौराहे होती है,
कटी नाक शूर्पणखा को प्रतिदिन
लम्बी होती है।
महिषासुर का मण्डन करते रामायण को भूल रहे,
बन्दूक उठा के आज युवा घर
अपना ही फूंक रहे।
अब तो नारी सजग होकर शस्त्रों
का संधान करो,
चंडी काली दुर्गा बनकर नवयुग
का निर्माण करो।
छद्म रखे निर्बलता के बंधन
सारे तोड़ दो,
तूफानों से टकराने को नाव उधर ही मोड़ दो।
मंज़िल तेरी हिम्मत तेरा पथिक व्यर्थ क्यूँ थकता है,
वही सफल जिसको #शमशान की,राख का चूरा लगता है।
निर्भय हो कूद पड़ो समर में चामुंडा अवतार हो,
तोड़ो बन्धन छद्म हया की देश की कर्णधार हो।

थाम लो तलवार अब तुम रानी लक्ष्मी बाई हो,
सुनीता कल्पना गीता जैसी आज
की तरुणाई हो।
तुम आज की तरुणाई हो……..

#अविनाश तिवारी
अमोरा जांजगीर-चांपा छत्तीसगढ

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

“पतवार”

Thu Nov 22 , 2018
कैसा यह संसार है  बाबा , पैसा है  तो प्यार है  बाबा || टूटी हूई पतवार है बाबा , और  जाना उस पार है  बाबा || पहले यह दुनिया , दुनिया थी , अब काला बाज़ार है  बाबा || झूठ से जब इज्जत मिलती है | सच कहना बेकार है  […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।