Author Archives: matruadmin - Page 1067

मातृभाषा

कहीं बहुत देर न हो जाए!

यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक / लेखकों का…
Continue Reading
काव्यभाषा

मोनालिसा की हँसी……

किसने देखी है, मोनालिसा की हँसी... शायद चित्रकार ने, या तुमने या हमने.. शायद किसी ने नहीं| गाँव की पगडंडी पर, पहाड़ों और खेतों की मेढ़ पर बकरियाँ चराती थावरी…
Continue Reading
मातृभाषा

एक भाषा का वेदनापूर्ण निवेदन….

सदियों से उसे समृद्ध बनाने वाली,प्राण फूंकने वाली,सदैव विकास पथ पर चोली-दामन सा साथ निभाने वाली आंचलिक बोलियों को इतनी निर्ममता से उससे अलग करने का विचार भी मन मे…
Continue Reading
काव्यभाषा

मां

इस धरती पर मां ईश्वर का है दूसरा रूप , मां की छवि है संसार का स्वरूप। मां ही होती है हम सबकी जन्मदाता, फिर भी नासमझ इंसान उसे नहीं…
Continue Reading
काव्यभाषा

कभी-कभी ऐसा भी

कभी-कभी ऐसा भी हो जाता है, पंछी आशियाने से जुदा हो जाता है। वो बचपन,जब खेले थे साथ-साथ, लड़ना भी शामिल था अक्सर जिसमें... वो बचपन भी कहीं खो जाता…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है