Author Archives: matruadmin - Page 1010

Uncategorized

गीत मेरे

सगरों की उर्मियों में, तुम दिखे हो गीत मेरे । फूल की हर पाँखुरी में, तुम हँसे हो गीत मेरे ।। उर धड़कते, बनके धड़कन.. तुम बने मन ईश मेरे।…
Continue Reading
Uncategorized

कोई मिल पल में चल देता

(मधुगीति १७०४१५ अ) कोई मिल पल में चल देता, कोई कुछ वर्ष संग देता; जाना सबको ही है होता, मिलन संस्कार वश होता। विदा क्षण-क्षण दिए चलना, अलविदा कभी कह…
Continue Reading
Uncategorized

खुशी…

मैंने खुशी को पास बुलाना चाहा, पर वह न आई कसम खाकर। मैंने खुशी को कलियों में खोजा, पर उपवन ले गया चुराकर। मैंने खुशी को नदियों में खोजा, पर…
Continue Reading
Uncategorized

पारस

  जब काटता नहीं था,नाई भी उसके बाल, जात-पात के वो मासूम,हल करता था नितदिन ही कांटेदार,असंख्य सवालl हर सवाल पहले वाले से ज्यादा कठिन, अनसुलझा-सा और अपमानजनक घूम जाता…
Continue Reading
Uncategorized

अभिनय की पाठशाला के प्राचार्य….

  (विनोद खन्ना को समर्पित) अस्सी के दशक में होश संभालने वाली पीढ़ी के लिए उन्हें स्वीकार करना सचमुच मुश्किल था,जिसका नाम था विनोद खन्ना..क्योंकि तब जवान हो रही पीढ़ी…
Continue Reading
Uncategorized

अभागिन धरा

तपती हूँ मैं जलती हूँ मैं, होकर निष्प्राण जैसे मरती हूँ मैं.. रौंदकर मेरे सम्पूर्ण विस्तार को, बना डाला है मुझको अभागिन धरा। कर दिया खोखला तूने मेरी देह को,…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है