हे माधव!तुमसा कोई कहाँ, हे माधव!तुम बिन जाऊं कहाँ। तुम जग के पालनकर्त्ता, कष्ट निवारक और विघ्नहर्ता। तुमने इस दुनिया को बनाया, सबको यहां जीना सिखलाया। रिश्ते-नाते तुमने बनाया, उन्हें निभाना भी सिखलाया। सब अपने हैं!इस दुनिया में, ये बातें तुमने समझायी। तुमने पुत्र का धर्म निभाया, अपनी माँ को […]

मेरी दिन रात की मेहनत, तो अब बेकार नहीं होगी, मुझे ईश्वर पर भरोसा है, कभी मेरी हार नहीं होगी। मैं दिल से काम करता हूँ, मैं संग हरिनाम जपता हूँ, मेहनत के बदौलत तो मैं, हर अवरोध से लड़ता हूँ, मेरे सर पर हाथ माँ का है, पिता का […]

कभी कभी सोचता हूँ, मैं मन में विचरता हूँ। ये हम कहाँ जा रहे हैं, क्यों? हम खुद को भुला रहे हैं। क्योंकि! आज भी धरती वही है, आज भी सूरज वही है, आज भी वही तारे हैं, आज भी वही सितारे हैं, केवल बदले हमारे नजारे हैं, केवल बदले […]

1

एक पीपल जिसे मैं सालों से देखती रही अकेला ! चुप, शांत और दु:ख से तड़फते हुए कंपकपातें होठ बोलना चाहते हो अपनी हजारों ख्वाहिशें कभी- कभी वो विद्रोह पर उतरता है और हिला देता है अपनी शाख -शाख , पत्ते मचल उठते हैं, मचा देते हैं शोर डालियों से […]

भोर की गहराइयों से फैलती है रोशनी, मौन से कुछ पल खड़े हैं भीगती अब ओस भी। धुंध-सी कुछ छँट रही है व्योम कुछ ज़ाहिर हुआ, दूर से आतीं हैं किरणें कुल समाँ रोशन हुआ। स्वर्ण-सा आभास जग को सूर्य की आभा कराती, चीरती जाती तिमिर को हर दिशा ओजस […]

1

कि एक अजीब रिश्ता है वो, जो कभी जुड़ता नहीं,न मिटता है। यूं तो वो दोनों एक ही है, पर कोई सच तो उनकी आंखों में छिपता है। हां माना कि,हुस्न की शहजादी नहीं है वो, पर उसके चेहरे से महबूब के लिए बेतहाशा नूर झलकता हैै। हां माना कि,दिल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।